1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

चांसलर ने चीन से कहा, बाज़ार खोलें

जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल के चीन दौरे पर जर्मन कंपनियों ने अरबों डॉलर के समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं, जबकि दोनों देशों के नेताओं ने कहा है कि वे पिछले साल की वैश्विक मंदी से बाहर निकल रहे हैं.

default

मैर्केल और चियापाओ

जर्मन चांसलर चार दिनों के अपने चीन दौरे पर अपने साथ महत्वपूर्ण कंपनियों के प्रमुखों को ले गई हैं. इस दौरे का लक्ष्य विश्व की दो निर्यातक अर्थव्यवस्थाओं के बीच ठोस संबंध को और गहरा बनाना है. चीन के प्रधानमंत्री वेन च्यापाओ ने ग्रेट हॉल ऑफ पीपल में चांसलर और उनके प्रतिनिधिमंडल का स्वागत करते हुए कहा है, "चीन और जर्मनी ने संकट और उथलपुथल की परीक्षा की अवधि पास कर ली है."

वेन चियापाओ और अंगेला मैर्केल की बातचीत के बाद दोनों देशों की कंपनियों ने नए समझौतों पर हस्ताक्षर किए. सीमेंस ने शंघाई इलेक्ट्रिक पावर जेनेरेशन इक्विपमेंट कंपनी के साथ भाप और गैस टरबाइन के विकास का 3.5 अरब डॉलर का समझौता किया है.

जर्मनी की ऑटोमोबाइल कंपनी डाइम्लर और चीन की फोटोन मोटर ने चीन में भारी ट्रकों के साझा निर्माण के लिए समझौता किया है. दोनों कंपनियों ने बराबर की साझेदारी में संयुक्त उद्यम बनाने की घोषणा की है. उत्पादों को घरेलू और विदेशी बाज़ारों में बेचा जाएगा. फोटोन के ऑमन ब्रैंड के ट्रकों का निर्माण डाइम्लर की तकनीक से किया जाएगा ताकि वह यूरोपीय स्तर का हो. इस सप्ताह जर्मन अधिकारियों ने कहा था कि दोनों कंपनियां 80 करोड़ यूरो का निवेश कर सकती हैं.

चीनी प्रधानमंत्री वेन चियापाओ के साथ मुलाकात के बाद पत्रकारों से बात करते हुए चांसलर अंगेला मैर्केल ने कहा कि उन्होंने विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में अधिक खुलेपन की जर्मन इच्छा पर ज़ोर दिया है. जर्मनी चाहता है कि चीन अपने बाज़ार को और खोले. चांसलर ने कहा, "चीनी कंपनियों की, बहुत सी अन्य देशों की कंपनियों की तरह जर्मन बाज़ार में अच्छी पहुंच है. हमें उम्मीद है कि जर्मन कंपनियों को चीनी बाज़ार में वही पहुंच मिलेगी."

चीनी आंकड़ों के अनुसार जर्मनी और चीन के बीच व्यापार पिछले दस सालों में तेज़ी से बढ़ा है. 2001 में 41 अरब डॉलर की तुलना में वह 2009 में बढ़कर 91 अरब डॉलर हो गया है. पिछले कुछ सालों में व्यापार में संतुलन की समस्या जरूर रही है. पिछले साल चीन से जर्मनी को 55 अरब डॉलर का निर्यात हुआ जबकि चीन ने जर्मनी से सिर्फ़ 36 अरब डॉलर का माल ख़रीदा.

चीनी प्रधानमंत्री वेन चियापाओ ने साझा प्रेस कांफ़्रेस में कहा, न जर्मनी और न चीन व्यापार असंतुलन चाहता है. हमें उम्मीद है कि व्यापार को संतुलित और व्यवस्थित किया जा सकेगा.

रिपोर्ट: एजेंसियां/महेश झा

संपादन: एन रंजन

संबंधित सामग्री