1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

चश्मे घड़ी पर भी खबरें पढ़िए

अगर आपका मन अखबार पढ़ने का नहीं है, टीवी पर समाचार देखने या फिर कंप्यूटर और स्मार्टफोन पर खबरें पढ़ने का नहीं है तो आप वियरबेल न्यूज के जरिए खबरों से रूबरू हो सकते हैं.

हाईटेक चश्मे के बढ़ते बाजार को देखते हुए खबरों के सौदागर इस तरह के उपकरण पर नजरें बनाए हुए हैं. दुनिया भर में हो रही हलचल को जानने वालों तक सुर्खियां या फिर उससे अधिक जानकारी इन उपकरणों के जरिए पहुंचना संभव है. कुछ न्यूज ऐप्स के पास ऐसी क्षमता है कि वह न्यूज नोटिफिकेशंस पहुंचा सके या फिर पूरी रिपोर्ट स्मार्टवॉच या फिर आईवेयर जैसे गूगल ग्लास तक पेश कर सकें.

सैकड़ों स्रोतों से समाचारों को इक्ट्ठा कर मोबाइल तक उसे पहुंचाने वाली अमेरिकी कंपनी न्यूज रिपब्लिक के मुख्य कार्यकारी गिलेस रेमंड कहते हैं, "स्मार्टवॉच पर हम पूरी ताकत के साथ आगे बढ़ रहे हैं." रेमंड का कहना है कि उन्हें उम्मीद है कि लोग न सिर्फ सुर्खियां, बल्कि पूरी रिपोर्ट पढ़ कर फायदेमंद महसूस करेंगे. रेमंड कहते हैं, "जब आईफोन आया था तब लोग कहते थे कि लोग समाचार फोन पर पढ़ेंगे लेकिन यह बात अब कोई नहीं करता. लोग घड़ियों पर आर्टिकल पढ़ेंगे. वे शायद 300 आर्टिकल नहीं पढ़ें लेकिन लोग जल्द ही तकनीक के अनुकूल हो जाते हैं." रेमंड ने न्यूज रिपब्लिक की स्थापना फ्रांस में की थी उसके बाद कंपनी का विस्तार यूरोप के अन्य बाजारों में किया, साथ ही उत्तरी अमेरिका और चीन तक कंपनी को पहुंचा दिया. कंपनी अपने ऐप पर एएफपी, अल जजीरा, रॉयटर्स और एपी समेत सैकड़ों स्रोतों से खबरें इक्ट्ठा करती है.

खबरें जमा करने वाले ऐप न्यूज360 के सीईओ रोमन काराचिंस्की का भी कहना है कि पहने जाने वाली तकनीक का भविष्य है. लेकिन सिर्फ त्वरित सूचनाएं पाने के लिए, "हम उस फॉर्मूला को बदल देना चाहते हैं जिसमें आप सूचना पाने के लिए जाते हैं. हम चाहते हैं कि दुनिया भर की सूचना आप तक पहुंचे जो लाभदायक और प्रासंगिक हो."

उनका कहना है कि गूगल के पहनने वाले उपकरण और एंड्रायड स्मार्टवॉच न्यूज360 के अलर्ट पाने की इजाजत देते हैं.

खेल की खबरें, शेयर बाजार का हाल या फिर ब्रेकिंग न्यूज की अलर्ट से सूचना पाने की जरूरत पूरी की जा सकती है. काराचिंस्की के मुताबिक, "जेब से स्मार्टफोन निकालने के बजाय अब आप अपनी कलाई देख सकते हैं या फिर गूगल ग्लास पर नजर डाल सकते हैं. यह बहुत ही क्रांतिकारी अनुभव है."

एए/एजेए (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री