1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

घिरते जा रहे हैं आरके पचौरी

आईपीसीसी के पूर्व चैयरमैन राजेंद्र कुमार पचौरी के भारत से बाहर जाने पर रोक लगी. 74 साल के पचौरी पर एक महिला सहकर्मी ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है. पचौरी घिरते नजर आ रहे हैं.

दिल्ली में 29 साल की महिला रिसर्चर ने जब पचौरी के खिलाफ यौन उत्पीड़न का मामला दर्ज कराया तो शुरुआत में पूर्व आईपीसीसी प्रमुख ने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी. लेकिन जब महिला ने पुलिस के सामने ईमेल, एसएमएस और व्हाट्सएप के रिकॉर्ड पेश किए तो पचौरी घिरते दिखाई पड़ने लगे. मंगलवार को उन्होंने संयुक्त राष्ट्र के इंटरगर्वमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (आईपीसीसी) के प्रमुख के पद से इस्तीफा दे दिया.

पचौरी ने तर्क दिया कि वो निजी कारणों के चलते ठीक से कामकाज नहीं कर सकेंगे. इस बीच ईमेल, एसएमएस और व्हाट्सएप मैसेज सार्वजनिक हो गए. अब पचौरी कह रहे हैं कि उनका ईमेल एकाउंट और मोबाइल हैक किया गया. इस मामले के सामने आने के बाद एक और महिला ने पचौरी पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है. वह महिला भी टेरी में काम कर चुकी है.

सेक्स के लिए बाध्य करने की कोशिश

पचौरी दिल्ली स्थित द एनर्जी एंड रिसोर्सेज इंस्टीट्यूट (टेरी) के प्रमुख हैं. यह जलवायु परिवर्तन पर शोध करने वाला थिंक टैंक है. आरोप लगाने वाली युवती इस संस्थान में रिसर्च के लिए आई थी. उसका

Friedensnobelpreisträger Galerie

आईपीसीसी को मिला नोबेल पुरस्कार लेते पचौरी

आरोप है कि पचौरी गलत व्यवहार के जरिए उसका यौन उत्पीड़न करते रहे. भारतीय मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक ईमेल, एसएमएस और व्हाट्सएप मैसेजों से इस बात के संकेत मिल रहे हैं कि पचौरी युवती को लगातार यौन संबंध बनाने के लिए बाध्य कर रहे थे. युवती बार बार पचौरी को रोकने की कोशिश कर रही थी.

इस बीच पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है. वहीं पचौरी सीने में दर्द की शिकायत के चलते अस्पताल में भर्ती हुए. दिल्ली की स्थानीय अदालत ने आरके पचौरी को 27 मार्च तक अंतरिम जमानत दी है. लेकिन गुरुवार को कोर्ट ने पचौरी के भारत से बाहर जाने पर रोक लगा दी. युवती के वकील जितेन मेहरा ने अदालती कार्रवाई की जानकारी देते हुए कहा, "जज आरके त्रिपाठी ने उन पर शर्तें लगाई हैं जिनमें उनके देश छोड़ने पर प्रतिबंध, अपने दफ्तर जाने और शिकायतकर्ता से संपर्क करने पर भी रोक लगाई गई है."

जांच के बाद अदालती कार्रवाई

शिकायत की पुलिस जांच पूरी होते ही अदालती सुनवाई शुरू हो जाएगी. 29 साल की युवती ने पिछले हफ्ते दिल्ली पुलिस को बताया कि सितंबर 2013 में जब उन्होंने टेरी में पचौरी के साथ काम करना शुरू किया, तभी से तत्कालीन आईपीसीसी प्रमुख ने उनका शोषण शुरू कर दिया.

पचौरी आरोपों से इनकार कर रहे हैं. उन्होंने आरोपों को "झूठ और मनगढ़ंत" करार दिया है. उन्होंने पुलिस जांच में पूरा सहयोग देने की बात भी कही है.

यह पहला मौका नहीं है जब पचौरी विवादों में घिरे हैं. 2007 में आईपीसीसी को मिले नोबेल शांति पुरस्कार को लेने मंच पर गए पचौरी, 2013 में जलवायु परिवर्तन पर गलत रिपोर्ट पेश करने के लिए विवादों में रह चुके हैं. 2002 में पहली बार आईपीसीसी के चैयरमैन बने पचौरी पेशे से अर्थशास्त्री और इंडस्ट्रियल इंजीनियर हैं. 2008 में उन्हें दूसरी बार आईपीसीसी के चैयरमैन पद के लिए चुना गया था.

ओएसजे/आरआर (डीपीए, एएफपी)


DW.COM