1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

घाटी में पुलिस के खून से बची महिला की जान

हिंसा और विरोध प्रदर्शनों से सुलगते कश्मीर में एक पुलिसवाले ने अपना खून देकर महिला की जान बचाई. कर्फ्यू के कारण बीमार महिला के ब्लड ग्रुप का खून ढूंढना मुश्किल था और ऐसे में उसकी जान पर बन आई थी.

default

फाइल फोटो

सोपोर के चोपान में रहने वाली हजीरा की जिंदगी का दीया बुझने ही वाला था कि मोहम्मद अलीम नाम का एक कांस्टेबल किसी फरिश्ते की तरह वहां पहुंच गया. हजीरा का ब्लड ग्रुप दुर्लभ है. ऊपर से कर्फ्यू का आलम. ऐसे में तय समय के भीतर खून ढूंढ पाना नामुमकिन था. इत्तेफाक से मोहम्द अलीम की पोस्टिंग उसी बारामूला के जिला अस्पताल के बाहर ही थी जिसमें हजीरा को भर्ती किया गया.

हजीरा की हालत बिगड़ने के बाद उसे अस्पताल लाया गया, जहां डॉक्टरों ने तुरंत खून चढ़ाने की जरूरत बताई. ब्लड बैंक में ढूंढने पर पता चला कि उस ग्रुप का खून मौजूद ही नहीं है. कर्फ्यू के कारण बाहर से भी खून ढूंढ कर लाना मुमकिन नहीं था. किसी तरह यह खबर मोहम्मद अलीम तक पहुंच गई और फिर उसने बताया कि उसका खून भी उसी ग्रुप का है और वह खून देने को तैयार है. डॉक्टरों ने अलीम के जिस्म से दो यूनिट खून निकाल कर महिला को चढ़ाया जिसके कारण उसकी जान बच सकी.

अलीम ने हजीरा की जान की सलामती के लिए दुआ भी मांगी. अब पूरे राज्य में उसकी तारीफ हो रही है. पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने हलीम को सम्मानित करने का भी एलान किया है.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links