1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

घर लौटीं जेसिंदा पर क्रिसमस के लिए नहीं

भारतीय मूल की ब्रिटिश नर्स का कर्नाटक के उनके गांव में अंतिम संस्कार कर दिया गया. इस बात की जांच चल रही है कि मीडिया की शरारत का शिकार होने के बाद उन्होंने कहीं आत्महत्या तो नहीं कर ली.

ब्रिटेन के किंग एड्वर्ड अस्पताल में काम करने वाली भारतीय मूल की नर्स जेसिंदा सल्दान्हा का शव मैंगलोर में उनके पति के गांव शिरवा लाया गया जहां उनके लिए प्रार्थना करने ढेरों लोग इकट्ठे हुए.

जेसिंदा पिछले हफ्ते लंदन में अपने मृत पाई गईं. उन्होंने एक ऑस्ट्रेलियाई रेडियो की फर्जी कॉल को रिसीव किया था, जिसके बाद राजकुमार विलियम की पत्नी केट विलियम की गर्भावस्था का हालचाल दिया गया. इसके बाद यह घटना हुई. उनकी मौत को आत्महत्या बताया जा रहा है और इस मामले की जांच चल रही है.

शिरवा के 'आवर लेडी ऑफ हेल्थ' चर्च में प्रार्थना सभा में जेसिंदा के पति, दो बच्चों, रिश्तेदारों और करीबी मित्रों समेत करीब 4,000 लोग शामिल हुए. बुधवार को जेसिंदा की याद में उनके गांव उडुपी में स्थानीय रोमन कैथलिक चर्च ने एक मार्च का आयोजन किया, जिसमें लोगों ने मोमबत्तियां जलाईं. शिरवा में जेसिंदा के अंतिम संस्कार के लिए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था का इंतजाम किया गया. इस बीच लंदन के वेस्टमिन्स्टर चर्च में भी उनकी याद में प्रार्थना सभा का आयोजन हुआ.

शिरवा में ज्यादातर ईसाई धर्म के लोग रहते हैं. वहां रहने वाली टीचर ऐल्विन जैंथी ने कहा, "यह साल का वह समय है जब लोग क्रिसमस की तैयारी में जुटे होते हैं. ऐसे में इस तरह की दर्दनाक घटना के बारे में किसी ने सोचा भी नहीं था." जेसिंदा लगभग 15 साल पहले अपने परिवार के साथ ब्रिटेन गई थीं. वे इससे पहले ओमान में रहती थीं. बताया जा रहा है कि इस फर्जी फोन कॉल के बाद वह तनाव में थीं.

हालांकि उनके परिवार वाले उनकी मौत पर खुलकर नहीं कह रहे हैं लेकिन दबे शब्दों में उनके आत्महत्या के कारणों की स्वतंत्र जांच की मांग कर रहे हैं. ब्रिटेन में वेस्टमिन्सटर कोरोनर कोर्ट में मामले की सुनवाई शुरू हो चुकी है. अगली सुनवाई 26 मार्च को होनी है.

एसएफ/एजेए (एएफपी, डीपीए)

DW.COM

WWW-Links