1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

'घर के कानून' ने ली छात्र की जान

अमेरिकी प्रांत मोंटाना में एक सत्रह साल के जर्मन छात्र की मौत के बाद गोली चलाने वाले व्यक्ति पर हत्या के आरोप लग रहे हैं. आरोपी का दावा है कि छात्र चोरी के मकसद से उसके गैरेज में घुसा था और उसने आत्मरक्षा में गोली चलाई.

29 वर्षीय आरोपी मार्कस कार्मा को घटना के बाद मोंटाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. जर्मन शहर हैम्बुर्ग का डिरेन डेडे मिसूला के एक स्कूल में एक्सचेंज कार्यक्रम के तहत गया था और हाई स्कूल का छात्र था. वह फुटबॉल का खिलाड़ी भी था. डेडे के सिर में गोली लगने से उसकी मौत हो गई. पुलिस अधिकारी ट्राविश वेल्श ने बताया, "शुरुआती रिपोर्टों में पता चलता है कि यह छात्र आरोपी के घर के गैरेज में चोरी करने के इरादे से घुसा था. इसी बीच अलार्म बज गया और घर के मालिक के हाथों गोली चलने से उसकी मौत हो गई." कार्मा पर जानबूझकर हत्या का आरोप है.

'घर के कानून'

कार्मा के वकील पॉल रायन ने कहा कि वह अदालत में इस मुद्दे को जोर देकर उठाएंगे कि मोंटाना में रहने वालों को अपने घर की हिफाजत के लिए 'कासल डॉक्टराइन' यानि घर के कानून लागू करने की छूट है.

अमेरिका के मोंटाना जैसे वे इलाके, जहां पुलिस को पहुंचने में देर लगती है, लोगों को खुद की रक्षा खुद ही करनी पड़ती है. मीलों दूर तक पुलिस का कोई अता पता नहीं और पड़ोसी इतनी दूर होते हैं कि मदद के लिए कतई नहीं आ सकते. इसी कारण वहां कासल लॉ नाम का एक कानून है. इस कानून के तहत वे अपने घर की हिफाजत और आत्मरक्षा के लिए गोली भी चला सकते हैं. लेकिन इसकी कुछ शर्तें हैं. कानून के अनुसार गोली तब तक नहीं चलाई जा सकती जब तक इस बात का विश्वास न हो जाए कि जान को खतरा है और ताकत का इस्तेमाल जरूरी है. इसके अलावा गोली चलाने से पहले चेतावनी देकर घर में घुसे व्यक्ति को रोकने की कोशिश भी की जानी चाहिए.

अगर ऐसा नहीं हुआ है तो दोषी पाए जाने पर कम से कम दस से लेकर सौ साल तक की कैद की सजा सुनाई जा सकती है. रायन ने कहा कि कार्मा और उनकी पत्नी का दस महीना का एक बेटा भी है. वे पिछले तीन हफ्तों में इससे पहले भी दो बार वे लूट का शिकार हो चुके थे. इसके बाद उन्होंने गैरेज में मोशन डिटेक्टर और कैमरा लगाया.

कुछ पीने के लिए चोरी

पुलिस अधिकारी एंड्रयू पॉल ने इस बात की पुष्टि नहीं की कि घटना के समय डेडे के साथ कोई और भी था या नहीं. लेकिन उन्होंने बताया कि डेडे के एक दोस्त ने जानकारी दी है कि डेडे गैरेज में कुछ पीने के लिए चुराने गया था. उन्होंने बताया कि वह जिस परिवार में रह रहा था वे कार्मा के पड़ोस में रहते हैं. पॉल के मुताबिक कार्मा ने चार गोलियां गैरेज की पीछे की दीवार की तरफ चलाईं. उनके अनुसार आरोपी अंधेरे में गोली चला रहा था.

रायन के अनुसार कार्मा और उनकी पत्नी घर में बैठे टीवी देख रहे थे कि तभी अलार्म बजने लगा. रायन ने कहा, "उन्हें घर में घुसने वाले का सामना करने के बजाय और कोई तरीका नहीं सूझा." रायन का कहना है कि कार्मा को डेडे की मौत के बाद बेहद अफसोस हुआ. उन्होंने कहा, "जान से मार देना मेरा मकसद नहीं था. इसमें कोई शक नहीं कि जो हुआ वह बेहद दर्दनाक है."

अभियोगी पक्ष ने आरोपी पर बदले की भावना से ग्रसित होने का आरोप लगाया है. पॉल ने कुछ गवाहों की जानकारी दी जिनके मुताबिक कार्मा ने कुछ दिन पहले हेयर कटिंग सैलून में इस तरह के इरादों के संकेत दिए थे. अभियोगी पक्ष ने हलफनामें में हेयरस्टाइलिस्ट का बयान दर्ज किया है जिसके मुताबिक कार्मा पहले से ही घुसने वाले किसी लड़के पर गोली चलाने का इरादा कर चुके थे.

डेडे को एक्सचेंज कार्यक्रम पर अमेरिका भेजने वाली संस्था ने अपने प्रतिनिधि मोंटाना भेजे हैं.

समरा फातिमा/एएम (एएफपी)

संबंधित सामग्री