1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

घपलेबाजी में रोनाल्डो ने मेसी को पीछे छोड़ा

फुटबॉल का सबसे अच्छा खिलाड़ी कौन है? रोनाल्डो या मेसी. इस पर बहस हो सकती है. लेकिन अगर टैक्स चोरी की बात आएगी तो रोनाल्डो ज्यादा बेहतर साबित होंगे. जानिये कैसे.

जो लोग पांच बार सर्वश्रेष्ठ फुटबॉलर का खिताब जीत चुके लियोनेल मेसी को सबसे बढ़िया प्लेयर मानते हैं, उन्हें बिल्कुल भी अंदाजा नहीं है कि क्रिस्टियानो रोनाल्डो कितने बड़े खिलाड़ी हैं. रोनाल्डो ने भले ही चार ही बार बेस्ट फुटबॉलर का खिताब जीता हो, लेकिन जब बात पैसा छुपाने और टैक्स चुराने की आती है तो वह मेसी को बहुत ही पीछे छोड़ देते हैं.

टैक्स दोनों ने चुराया. लेकिन सच यह है कि मेसी पकड़े गए. 2016 में उन्हें बार्सिलोना की जिला अदालत में जाना पड़ा. टैक्स फ्राड के लिए उन पर 20 लाख यूरो जुर्माना ठोंका गया और 21 महीने की जेल की सजा भी सुनाई गई. अदालत में साबित हो गया कि मेसी और उनके पिता ने 41 लाख यूरो का टैक्स चुराने की कोशिश की.

और रोनाल्डो? आधिकारिक तौर पर कहा जाए तो क्रिस्टियानो रोनाल्डो दोस सांतोस एवेइरो, स्पेन में जमा किये गए टैक्स रिटर्न में उनका यही नाम है. 2014 में रोनाल्डो ने 6.35 करोड़ यूरो चुपचाप जेब में दबा लिये. उन्होंने इस रकम पर एक पैसा भी टैक्स नहीं चुकाया. हो सकता है कि वह इस मामले में कानूनी झमेले से बच भी जाएं क्योंकि रोनाल्डो ने बड़ी होशियारी से यह सब कुछ किया.

Real Madrid Barcelona Ronaldo Messi (Getty Images/AFP/S. Wu)

रोनाल्डो और मेसी

तो अब बताइये कि बेहतर खिलाड़ी कौन है? खोजी पत्रकारिता के लिए मशहूर जर्मन पत्रिका डेय श्पीगेल के आर्टिकल के बाद स्पेन के टैक्स अधिकारी उलझे से हैं. उन्हें अंदाजा ही नहीं हो रहा है कि इस मामले को कानून के दायरे में कैसे लाया जाए. ब्रिटेन के वर्जिन आइलैंड की दो शेल कंपनियों और एक और शेल कंपनी की मदद से सात नंबरी रोनाल्डो ने ये मुमकिन किया. पैसा स्विस बैंक के प्राइवेट खाते में गया. स्पेन के टैक्स रिटर्न में रोनाल्डो ने इन विदेशी स्रोतों का जिक्र नहीं किया.

रोनाल्डो खुद कह चुके हैं कि, "मैं एक स्मार्ट लड़का हूं. आप अच्छा खेलें या बुरा, इससे फर्क नहीं पड़ता, सबसे जरूरी है जीतना." यह बात उन्होंने भले ही फुटबॉल के बारे में कही हो लेकिन यह उनके बैंक खातों पर भी दुरुस्त बैठती है. अमीरों की दुनिया में उन्हें बेवकूफ माना जाता है जो टैक्स सिस्टम की खामियां न खोज पाएं.

टैक्स बचाने की कोशिश सभी करते हैं. लेकिन युवाओं को प्रेरित करने वाली, रोनाल्डो और मेसी जैसी शख्सियतों का ऐसा करना नैतिक रूप से ठीक नहीं. पहली बात तो वह खिलाड़ी हैं और खेल भावना का दावा करते हैं, यानि ईमानदार खेल. दोनों के दुनिया भर में अरबों फैन्स हैं. अब उन फैन्स का एक चहेता सितारा टैक्स चोरी में फंस चुका है और दूसरा अब भी स्मार्ट गेम खेलने की कोशिश कर रहा है.

असल में फुटबॉल लीक्स नाम की एक वेबसाइट ने डेय श्पीगेल को 1.9 टेराबाइट की एक हार्ड डिस्क दी. खेलों के इतिहास में यह पहला मौका है जब इतने बड़े पैमाने पर सूचनाएं हाथ लगी हों. डेय श्पीगेल ने डाटा को अपनी सहयोगी 12 मीडिया संस्थाओं क साथ बांटा. डाटा यूरोपियन इनवेस्टिगेटिव कोलेब्रैशन को भी दिया गया. महीने भर से इस डाटा की जांच हो रही है.

डाटा से पता चला कि रोनाल्डो ने मार्केटिंग डील्स से करोड़ों यूरो कमाये और 2014 तक यह पैसा कैरेबियन शेल कंपनियों में लगाया. उन्होंने उस पैसे पर शायद ही कोई टैक्स दिया. इसके बाद पुर्तगाली कप्तान ने अपने 2015 से लेकर 2020 तक के मार्केटिंग अधिकारों की डील को आगे बढ़ा दिया. लेकिन नई डील से आया एक्स्ट्रा पैसा भी उन्होंने 2014 में ही जमा कर लिया. क्योंकि स्पेन में वह न्यूनतम टैक्स का लाभ 2014 तक भी ले सकते थे. इस तरह कुल मिलाकर रोनाल्डो ने 6.35 करोड़ यूरो की कमाई पर कोई टैक्स नहीं दिया. लेकिन अब तिकड़म सामने आ चुकी है और स्पेन के टैक्स अधिकारी जांच में जुट गए हैं.

जर्मन पत्रिका के हाथ लगे डाटा ने सिर्फ रोनाल्डो का ही तौलिया नहीं खींचा है, जर्मनी के मेसुत ओएजिल और क्लब फुटबॉल के दिग्गज कोच खोसे मोरिन्यो की पोल भी खुली है. अब तो शुरुआत ही हो रही है, आने वाले दिनों यह डाटा खेल जगत में बड़े तूफान लाएगा.

 

DW.COM

संबंधित सामग्री