1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

ग्रैंड स्लैम में जीत से मिली धार: मरे

ब्रिटिश टेनिस खिलाड़ी एंडी मरे मानते है कि ग्रैंड स्लैम में मिली जीत के कारण उनके खेल को एक धार मिली है. इस जीत से उन्हें धुरंधर खिलाड़ियों के खिलाफ खेलने में मदद मिलती है.

मरे ने एटीपी टूर फाइनल्स के दौरान एक बार फिर अपना फौलादी चेहरा दिखाया. उन्होंने पांचवी वरीयता वाले चेक खिलाड़ी थोमास बेर्डिच को 3-6, 6-3, 6-4 से हरा दिया. "मुझे उम्मीद है कि जब मैं दुनिया के सबसे अच्छे खिलाड़ियों के सामने खेलूंगा तो मुझे अपने शॉट्स पर ज्यादा विश्वास होगा और मैं सुनिश्चित करूंगा कि मैं ज्यादा से ज्यादा आक्रामक खेलूं. मुझे लगता है थोमास के खिलाफ गेम में मैंने अच्छा प्रदर्शन किया. आगे आने की कोशिश की और उनका समय लिया. इस साल कुछ बड़े मैच जीतने के बाद और ऑस्ट्रेलिया में नोवाक, विम्बल्डन में रोजर के साथ मुश्किल मैच में हारने के बाद इस साल मैंने बहुत कुछ सीखा. खासकर कि मुझे बड़े गेमों में बड़े खिलाड़ियों के साथ कैसे खेलना है."

सीजन के आखिरी टूर्नामेंट की शुरुआत में सामने बेर्डिच को देखकर उन्हें निश्चित ही खुशी हुई होगी, क्योंकि अमेरिकी ओपन के बाद से उन्हें मैच जीतने में मुश्किल हो रही है. करियर का पहला ग्रैंड स्लैम खिताब उन्होंने सितंबर में उठाया था जब उन्होंने अमेरिकी ओपन में नोवाक जोकोविच को हराया. इससे पहले वह चार अहम फाइनल मैच हार चुके थे.

25 साल के एंडी मरे की जीत ने एक तरह से संकेत दिया कि उन्हें भी जोकोविच, रोजर फेडरर और रफाएल नाडाल के साथ एक ही पंक्ति में खड़ा किया जा सकता है. दुनिया के तीसरे नंबर के खिलाड़ी मरे को इस जीत ने विश्वास दिलाया कि वह अपनी शर्तों पर मैच जीत सकते हैं. इससे पहले उनकी आलोचना होती रही है कि बड़े मैचों में वह निष्क्रिय हो जाते हैं.

उन्होंने टोक्यो में मिलोस राओनिक, शंघाई में जोकोविच और पैरिस में जेर्जी यान्कोविच के साथ मैच प्वाइंट हासिल किए लेकिन एक भी मैच नहीं जीत पाए. लेकिन इस बार बेर्डिच को उन्होंने दूसरे ही मैच प्वाइंट पर हरा दिया. "मैं सोच रहा था कि ऐसा क्यों हुआ. शंघाई में जोकोविच के खिलाफ मैच, मुझे नहीं लगता कि मैंने तब बहुत गलतियां की थी. पैरिस के मैच से मैं दुखी था. मैं जल्दी मचा रहा था, जितने ध्यान और फोकस की मुझे जरूरत थी, मैंने नहीं लगाया. इसलिए मैंने आज हर प्वाइंट पर फोकस किया. मुझे उत्साह मिला. मैंने अपना समय लिया और अच्छी सर्विस की."

ओलंपिक के बाद अब एंडी मरे ब्रिटिश दर्शकों के सामने खेल रहे थे. "साल के आखिर में जब सभी लोग थोड़े थके हुए हैं. ऐसे समय में माहौल और बहुत सारे दर्शक आपको ज्यादा ऊर्जा देते हैं और आपको अच्छा टेनिस खेलने पर मजबूर करते हैं. तो ब्रिटेन में फिर से खेलना अच्छा था."

एएम/एमजे (एएफपी)

DW.COM

WWW-Links