1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ग्रीस में उतरतीं नंबर प्लेटें

आर्थिक तंगी से जूझ रहे ग्रीस में लोगों ने अपनी गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन रद्द करना शुरू कर दिया है. उनका कहना है कि आमदनी में भारी कटौती के बाद अब गाड़ियों पर लगने वाला कर देना मुमकिन नहीं है.

ग्रीस में क्षेत्रीय परिवहन दफ्तरों के बाहर लाइन में लगे ढेरों लोग अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं. साल खत्म होने के पहले यह इन दिनों आम मंजर है. लोग अपनी गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन रद्द कराने आए हुए हैं. कर्ज में डूबे यूरोजोन के देश ग्रीस के लोग बचत के लिए साल 2014 में गाड़ियों पर लगने वाले कर का भुगतान नहीं करना चाहते.

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार लोग अपने हाथों में गाड़ियों की नंबर प्लेटें लेकर सरकारी अधिकारियों के दफ्तर पहुंचे. उनका कहना है कि छोटी छोटी कारों पर सैकड़ों और बड़ी कारों पर हजारों यूरो का कर देना उनके बस में नहीं है.

वित्त मंत्रालय के अधिकारी कारिस थियोकारिस ने कहा, "इस एक साल के अंदर हमने करीब 70,000 मामले दर्ज किए हैं जिनमें लोगों ने अपनी नंबर प्लेटें वापस कर दी हैं."

बेमजा ड्राइविंग

लोगों का बदहाली में कर देने से इनकार करना और गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन रद्द कराना देश के कठिन हालात की तरफ एक और इशारा करता है. ग्रीस के सबसे बड़े व्यापार संघ के अनुसार लोगों की आमदनी 2009 से अब तक 40 फीसदी गिर गई है, ऐसे में कई लोगों के लिए गुजारा ही करना बहुत मुश्किल हो गया है.

कार डीलरों का भी कहना है कि देश में 2009 से करीब 10 लाख वाहनों का रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ है. ग्रीस में गाड़ियों का बाजार बदहाल होता जा रहा है.

जनवरी से नवंबर के बीच गाड़ियों की बिक्री में पिछले साल के मुकाबले 40 फीसदी कमी आई है. साल 2013 के शुरुआती नौ महीनों में मात्र 55,000 गाड़ियों के रजिस्ट्रेशन ही हुए हैं.

बिजली मुफ्त

कारों के लिए तो धन नहीं है, बिजली का खर्च न चुका पाने के कारण बहुत से लोग जाड़ों में घरों को गर्म रखने के लिए लकड़ी जलाने लगे हैं. इसकी वजह से वायु प्रदूषण इतना बढ़ गया है कि ग्रीस सरकार को गरीबों के लिए बिजली मुफ्त करने का फैसला लेना पड़ा है.

बढ़ते वायु प्रदूषण के कारण स्वास्थ्य मंत्री ने चेतावनी दी है और दिन के हिसाब से बिजली मुफ्त करने का निर्देश दिया है. पिछले हफ्ते देश के लगभग सभी शहरों में वायु प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुंच गया था. नया अध्यादेश तुरंत लागू हो गया है. जैसे ही वायु में कणों का आयाम सामान्य से ज्यादा हो जाएगा, बेरोजगारों और मुश्किलजदा परिवारों के लिए उसके अगले दिन बिजली मुफ्त होगी.

एसएफ/एमजे (डीपीए, रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री