1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

फीडबैक

ग्रीनलैंड के तेल भंडार

हमारी वेबसाईट पर खोज, रंग तरंग जैसे कार्यक्रमों में लोफ़ार सबसे बड़ा टेलिस्कोप, टॉक शो से लैरी किंग की विदाई और बेल बजाओ आंदोलन जैसे लेखों को पढ़ कर श्रोताओं से प्रतिक्रियाएं आई हैं, आइए जाने वे क्या सोचते हैं.

default

आज खोज के नवीनतम अंक में ग्रीनलैंड में तेल भंडार के बारे में सुना. आपका विश्लेषण सही है की कहीं विकास के लिए हम प्रकृति के संतुलन को इतना ना बिगड़ दें की सम्पूर्ण विनाश हो जाये. मेक्सिको की खाड़ी में तेल रिसाव से अभी तक निज़ात नहीं पाई जा सकी है. ग्रीनलैंड के तेल भंडारों का दोहन बहुत सोच समझ और सावधानी के बाद किया जाना चाहिए.

गणेश शर्मा , शेखावाटी रेडियो इन्टरनेट यूसर्स क्लब , फतेहपुर शेखावाटी

***

बेल बजाओ आंदोलन को कान में पुरस्कृत किया गया इससे उस उद्देश्य को बल मिलेगा जिसके लिए यह आंदोलन शुरू किया गया है. घरेलु हिंसा को रोकने की दिशा में यह पुरस्कार थोडा भी जागरूकता पैदा कर सका तो संतोषजनक बात होगी. युवा पीढ़ी का इससे जुड़ना बहुत जरूरी है. आप मानवीय सरोकारों के प्रति बहुत बहुत संवेदनशील और समर्पित है यह ख़ुशी की बात है.

लोफ़ार के माध्यम से अंतरिक्षिय रेडियो तरंगों के बारे में काफी विस्तृत जानकारी दी गई. लोफ़ार के उपयोग और इस परियोजना की जानकारी भी महत्वपूर्ण थी. ब्रह्मांड के रहस्यों को उद्घाटित करने की मनुष्य हमेशा से कोशिश करता आ रहा है. क्या उड़न तश्तरियों और आरियां जैसी चीजों का कोई अस्तित्व वैज्ञानिक मानते हैं? इस पर किसी कार्यक्रम में जानकारी देवें.

विभा मालू , फतेहपुर-शेखावाटी

***

वेस्ट वॉच के अंतर्गत कैथोलिक पादरियों पर चर्चा का कानून शीर्षक से जानकारी कुछ सोचने पर विवश करती है. पूरी जिंदगी कुंवारा रहने की शर्त एक प्रकार की ज्यादती कही जायगी. हिन्दुओ में देवी देवता शादी शुदा रहे है. जहां तक मेरी जानकारी है कई दूसरे धर्मो में भी इस की अनुमति दी गई है. फिर ईसाई वर्ग क्यों कुंवारा रखना चाहता है अपने पादरियों को. प्रकृति ने जो चीज मानव को प्रदान की वह उपयोग हेतु है. उसका गलत प्रयोग भगवान के साथ गद्दारी भी है. आपने काफी ज्वलंत मुद्दा रखने का प्रयास किया है.

उमेश कुमार शर्मा , स्टार लिस्नर्स क्लब , नारनौल , हरियाणा

***

जर्मनी और इंग्लैंड के बीच बहुत तगड़ा मुकाबला चल रहा हैं. देखते हैं कौन बाजी मारता है. कान पर रेडियो रखकर टीवी के सामने बैठा हूं और मोबाइल से आपको यह मेल भेज रहा हूं.

जिउराज बसुमतरी , जिला सोनितपुर , असम

***

रिपोर्टः विनोद चढ्डा

संपादनः एस गौड़