1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ग्रीक नेता सिप्रास ने बताया हौआ

ग्रीस की वामपंथी पार्टी सिरीजा के प्रमुख अलेक्सिस सिप्रास ने उनके देश के यूरो छोड़ने की बहस को हौआ बताया है. एक ओर यह मुद्दा जर्मन मीडिया में छाया हुआ है तो ग्रीस की मीडिया ने इसे नजरअंदाज कर दिया है.

इस महीने होने वाले चुनावों मे जीत के गंभीर दावेदार अलेक्सिस सिप्रास ने ग्रीस के यूरो से बाहर होने की बहस पर कहा कि कंजरवेटिव सरकार प्रमुख अंटोनिस समारास और उनके समर्थक इस हौए का इस्तेमाल मतदाताओं को आतंकित करने के लिए कर रहे हैं. सिप्रास ने कहा कि सत्ताधारी पार्टी को इसमें कामयाबी नहीं मिलेगी. जनमत सर्वेक्षणों में सिप्रास की पार्टी सबसे आगे चल रही है और चुनावों के बाद उसके सरकार बनाने की संभावना है.

सिप्रास समारास की बचत नीतियों के खिलाफ हैं और सत्ता में आने पर उन्हें बदलने की बात कह रहे हैं. विपक्षी नेता ने कहा कि उनकी भावी सरकार कर्जदाताओं के साथ बचत के कदमों में ढील देने पर सख्ती से समझौता करेगी और कर्ज माफी की कोशिश करेगी. सिप्रास ने कहा कि उनकी ओर से कोई एकतरफा कदम नहीं उठाए जाएंगे, "जब तक कि उन पर दबाव नहीं डाला जाता." समारास लोगों को चेतावनी देते रहे हैं कि सुधार कार्यक्रमों को लागू किए बिना ग्रीस मंदी से बाहर नहीं निकल सकता. उनका आरोप है कि उनके प्रतिद्वंद्वी सिप्रास ग्रीस को यूरो जोन से बाहर निकाल लेंगे.

ग्रीक मीडिया

ग्रीक मीडिया के बहुमत ने वामपंथियों की जीत की स्थिति में ग्रीस के यूरो मुद्रा को छोड़ने या यूरो जोन से बाहर निकाले जाने की अटकलों पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया है. एथेंस से प्रकाशित होने वाले प्रतिष्ठित दैनिक "ता नेया" ने मुख्य पृष्ठ पर सुर्खी लगाई है "ग्रेक्जिट पर नई अटकलें" लेकिन रिपोर्ट पेज 17 पर छापी है. जर्मन बहस को नजरअंदाज करने की मुख्य वजह यह भी है कि इस पर ग्रीक मीडिया में कई हफ्तों से बहस हो रही है.

Alexis Tsipras 29. Dez. 2014

वामपंथी पार्टी सिरीजा के प्रमुख अलेक्सिस सिप्रास

जर्मनी यूरोप की मुख्य अर्थव्यवस्था है और ग्रीस में चांसलर अंगेला मैर्केल को ग्रीस की बदहाली और कटौतियों के लिए जिम्मेदार माना जाता है. वीकएंड में खबर आई थी कि जर्मनी ग्रीस के यूरो जोन छोड़ने को एक विकल्प मानाता है. सरकारी खर्च की कटौतियों को बंद करने की सिप्रास की घोषणा दाता देशों के साथ हुए समझौते तोड़ने जैसा होगा. लेकिन जर्मनी में हो रही बहस का सोमवार को ग्रीस के शेयर बाजार पर भी ज्यादा असर नहीं हुआ है. शुरुआती कारोबार में एथेंस का सूचकांक एएसई 0.23 फीसदी की गिरावट के साथ शुरू हुआ.

यूरोपीय प्रतिक्रिया

फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांसोआ ओलांद ने कहा है कि यूरोजोन में ग्रीस का बने रहना उनके अपने ऊपर निर्भर करता है. उन्होंने कहा, "यूरोजोन पर फैसला अकेले ग्रीस का होगा." वामपंथी सिरीजा का संभावित जीत के बाद पैदा होने वाली परिस्थितियों के मद्देनजर ओलांद ने कहा कि ग्रीक मतदाता अपनी सरकार के बारे में फैसला करने के लिए स्वतंत्र हैं.

फ्रांसीसी अखबार ला चारेंटे लिब्रे ने लिखा है कि यूरोजोन में ग्रीस के रहने के बारे में जर्मनी के विचार को ग्रीक मतदाताओं द्वारा अवैध हस्तक्षेप के रूप में देखा जा सकता है, "और मतदान केंद्र पर इच्छित नतीजा देने के बदले उसके उलट साबित हो सकता है."

एमजे/आईबी (डीपीए, एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री