1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ग्बैगबो को मनाने में जुटे अफ्रीकी नेता

पश्चिमी अफ्रीका के नेता अलग थलग पड़े आइवरी कोस्ट के राष्ट्रपति लॉरेन्ट ग्बैगबो को पद छोडऩे के लिए मनाने में जुट गए हैं. तीन अफ्रीकी नेताओं ने मंगलवार को उनसे बात की. अफ्रीकी नेताओं ने मुलाकात को सकारात्मक बताया.

default

बेनिन के राष्ट्रपति बोनी याई

करीब ढाई घंटे तक चली मुलाकात के बाद बेनिन के राष्ट्रपति बोनी याई ने कहा बातचीत अच्छी रही. राष्ट्रपति बोनी याई, सिएरा लियोन के राष्ट्रपति अर्न्सट कोरोमा और केप वर्दे के राष्ट्रपति पेड्रो पाइरस के साथ ग्बैगबो के प्रतिद्वंदी अलासाने ओउतारा से भी मुलाकात की है.

ये तीनों नेता आइवरी कोस्ट गए और ग्बैगबो को ये बताने की कोशिश की कि अगर उन्होंने पद नहीं छोड़ा तो उनके खिलाफ ताकत का इस्तेमाल किया जा सकता है. इन नेताओं ने ये भी जताया कि ग्बैगबो की जिद देश में गृह युद्ध की शुरुआत कर सकती है.

NO FLASH Elfenbeinküste Blauhelmsoldaten

तीनों नेता बारी बारी से राष्ट्रपति भवन पहुंचे जहां ग्बैगबो ने उनका स्वागत किया. बातचीत के बाद मुस्कुराते और सहज नजर आते ग्बैगबो इन नेताओं को राष्ट्रपति भवन से बाहर छोडऩे भी आए. बोनी याई ने पत्रकारों से कहा,"सबकुछ बहुत अच्छा रहा है." हालांकि इस बारे में उन्होंने और ज्यादा जानकारी देने से इंकार कर दिया.

इन नेताओं ने कहा है कि अभी और बातचीत की जरूरत पड़ेगी. दोनों नेताओं से मिलने के बाद इकोवास का ये प्रतिनिधिमंडल नाइजीरिया जाकर संगठन के अध्यक्ष को बातचीत की प्रगति के बारे में जानकारी देगा. इन नेताओं के ग्बैगबो से अब 2 जनवरी को दोबारा मिलने की तारीख तय की गई है.

मध्यस्थता करने गए इन तीनों नेता ग्बैगबो से मुलाकात के बाद संयुक्त राष्ट्र शांति सैनिकों के सुरक्षा कवच में उस होटल गए जहां ओउतारा और उनके समर्थकों को संकट के दौरान रोक कर रखा गया है. होटल के गेट पर ही ओउतारा ने प्रधानमंत्री गिलाउमे सोरो के साथ इन तीनों नेताओं का स्वागत किया.

Elfenbeinküste Gbagbo Anhänger

पश्चिमी अफ्रीकी देशों के संगठन इकोवास ने इन नेताओं को बातचीत के लिए भेजा है. ओउतारा के साथ मुलाकात के बाद ये फिर वापस ग्बैगबो के पास गए और एक घंटे तक बात की. इससे पहले इन नेताओं ने आइवरी कोस्ट में संयुक्त राष्ट्र मिशन के प्रमुख चोई युंग जिन से भी मुलाकात की.

इस बीच ग्बैगबो ने ये भी कहा है कि जो देश ओउतारा के नियुक्त किए दूतों को मान्यता देंगें उनके साथ वो संबंध तोड़ लेंगे और उनके मिशन को भी देश में काम नहीं करने दिया जाएगा.

आइवरी कोस्ट में पिछले दिनों हुए राष्ट्रपति चुनाव में ओउतारा ने ग्बैगबो को हरा दिया लेकिन इसके बाद ग्बैगबो ने सत्ता छोड़ने से इंकार कर दिया. अंतरराष्ट्रीय बिरादरी उनसे कुर्सी छोड़ने और ओउतारा को सत्ता सौंपने की मांग कर रही है. अंतरराष्ट्रीय पर्यवेक्षकों और संयुक्त राष्ट्र ने भी ओउतारा की चुनाव में जीत पर मुहर लगाई है.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः एस गौड़