1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

गोमांस रखने के आरोप पर ले ली जान

उत्तर प्रदेश के दादरी इलाके में पुलिस ने छह लोगों को एक 50 वर्षीय व्यक्ति की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया है. बीफ बैन वाले यूपी में मुस्लिम समुदाय के इस व्यक्ति पर आरोप था कि उसके घर में बीफ यानि गोमांस रखा है.

भारत के कई दूसरे राज्यों समेत यूपी में भी हाल ही में गोमांस पर प्रतिबंध लगा है. बीफ खाने या रखने पर सजा का प्रावधान है. दादरी के इस 50 साल के व्यक्ति मोहम्मद अखलाक के बारे में कथित रूप से अफवाह फैली कि कुछ दिनों पहले पास से ही लापता हुई गाय को उसने मार कर खा लिया है.

घर से बरामद हुए मीट को जांच के लिए भेज दिया गया है. भारतीय दैनिक इंडियन एक्सप्रेस ने मृतक की बेटी साजिदा का बयान प्रकाशित किया है. साजिदा ने कहा है कि घर के फ्रिज में मटन रखा था बीफ नहीं. उसने कहा, "उन्होंने हम पर गोमांस रखने का आरोप लगाया, दरवाजे तोड़ दिए, मेरे पिता और भाई को मारना शुरु कर दिया. मेरे पिता को वे लोग घसीट कर बाहर ले गए और ईंटों से पीटा." साजिदा पूछती हैं कि अगर यह साबित हो गया कि वह गोमांस नहीं था तो क्या वे उसके पिता को वापस ला सकेंगे?

पुलिस ने बताया है कि राजधानी दिल्ली से करीब 50 किलोमीटर दूर स्थित दादरी गांव में रात को गांव के 100 से अधिक लोगों ने मोहम्मद अखलाक के घर के बाहर इकट्ठे होकर तोड़ फोड़ की. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक किरन एस ने बताया कि घटनास्थल पर पहुंचने पर उन्होंने काफी भीड़ देखी और वहां पड़े मोहम्मद अखलाक और उनके 22 वर्षीय बेटे को अस्पताल भेजने का इंतजाम किया. मोहम्मद अखलाक को मृत घोषित कर दिया गया जबकि गंभीर रूप से घायल उनका बेटा आईसीयू में भर्ती है. पुलिस मामले की जांच कर रही है और इलाके में पुलिस सुरक्षा कड़ी कर दी गई है.

देश के राज्यों में गोमांस पर पहले से मौजूद प्रतिबंधों को और सख्त बनाने का सिलसिला महाराष्ट्र से शुरु हुआ. मार्च में इस राज्य में बीफ को रखना भी गैरकानूनी घोषित कर दिया गया. माना जाता है कि हिंदू धर्म में गाय का विशेष महत्व है जबकि मुसलमान समेत भारत के कई समुदायों में गोमांस खाने का चलन है. सामाजिक कार्यकर्ता इसे पूरे भारत के हिंदूकरण की कोशिश भी बताते हैं.

दादरी के इस मामले में वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस परिवार के बीफ खाने की बात मंदिर में इकट्ठा लोगों को बताई गई थी. वहां लाउडस्पीकर पर घोषणा कर के भीड़ को जमा किया गया और उसके बाद ही भीड़ ने हमला बोला.

आरआर/आईबी (एएफपी, पीटीआई)