1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

गोपनीय दस्तावेजों और टिप्पणियों पर अमेरिका को अफसोस

अमेरिका की विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने कहा है कि विकीलीक्स के जरिए जारी हुए गोपनीय दस्तावेजों पर अमेरिका को बेहद अफसोस है. उन्होंने कहा कि यह उनके देश पर ही नहीं बल्कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय पर हमला है.

default

सोमवार को वेबसाइट विकीलीक्स ने अमेरिकी विदेश विभाग के दो लाख 50 हजार से ज्यादा गोपनीय दस्तावेज जारी किए. इन दस्तावेजों में अमेरिकी दूतावासों और विदेश विभाग की ओर से भेजे गए संदेश हैं. इनमें काफी संदेश अमेरिका के लिए शर्मिंदगी का सबब बने हैं. इस खुलासे के बाद अमेरिका बौखलाया हुआ है. उसने विकीलीक्स के काम को गैरकानूनी करार दिया है.

USA Wikileaks Außenministerium in Washington Gebäude

विकीलीक्स के खुलासे के एक दिन बाद अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने कहा कि विकीलीक्स वेबसाइट ने इन दस्तावेजों को इंटरनेट पर डालकर गैरकानूनी काम किया है. उन्होंने कहा कि जो भी गोपनीय दस्तावेजों को लीक करने के लिए जिम्मेदार है उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

लेकिन अमेरिकी विदेश मंत्री ने दस्तावेजों के बारे में कुछ भी नहीं कहा. उन्होंने कहा, "कथित रूप से चुराए गए विदेश मंत्रालय के दस्तावेजों पर मैं कोई टिप्पणी नहीं करूंगी. लेकिन मैं इतना जरूर कह सकती हूं कि अमेरिका को ऐसी किसी भी सूचना के सार्वजनिक होने पर बेहद अफसोस है जो गोपनीय रखी जानी चाहिए थी. इनमें वे निजी बातचीत भी शामिल हैं जो सहयोगी देशों के राजनयिकों के साथ हुईं. उनमें व्यक्त विचारों और विश्लेषण के सार्वजनिक होने पर भी हमें अफसोस है."

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः महेश झा

DW.COM

WWW-Links