1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

गैस विवाद ने अनिल अंबानी की कंपनी चूना लगाया

गैस विवाद पर आए सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद मुकेश अंबानी की कंपनी के शेयरों में उछाल. अनिल अंबानी की कंपनी को पल भर में लगा अरबों को चूना. अनिल ने कहा, सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले से वह संतुष्ट हैं.

default

ग्रीस पर छाए आर्थिक संकट की वजह से दुनिया भर के शेयर बाज़ार गिरते जा रहे हैं. बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज भी इस अछूता नहीं है. हफ़्ते के आख़िरी कारोबारी दिन शुक्रवार को बीएसई सेंसेक्स 218 अंक गिरा. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ने भी 73 अंकों का गोता लगाया.

लेकिन दिलचस्प रहा अंबानी बंधुओं की कंपनियों का हाल. दोनों के बीच छिड़े गैस विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला आते ही दलाल स्ट्रीट पर हलचल बढ़ गई. फ़ैसला मुकेश अंबानी की कंपनी आरआईएल के हक़ में आया. इसके बाद आरआईएल के शेयर चढ़ने लगे. गिरते बाज़ार के बीच आरआईएल का शेयर क़रीब ढाई फ़ीसदी ऊपर चढ़ गए. 1033.85 के जवाब में शेयर 1060 पर बंद हुआ.

वहीं दूसरी तरफ़ अनिल अंबानी की कंपनी आरएनआरएल के शेयर गिरते चले गए. सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद पल भर में छोटे भाई की कंपनी की मार्केट वैल्यू 9,000 करोड़ रुपये गिर गई. मुकेश की कंपनी का बाज़ार भाव 7,500 करोड़ रुपये बढ़ गया.

Mukesh Ambani, Industrialist, Indien

सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के मुताबिक गैस की क़ीमत सरकार तय करेगी. अनिल अंबानी चाहते थे कि मुकेश की कंपनी गैस 2005 में हुए पारिवारिक क़रार के तहत सस्ती दर पर बेंचे. मुकेश अंबानी का कहना था कि गैस सरकार की संपत्ति है, जिसकी वजह से पारिवारिक करार उस पर लागू नहीं होता. मुकेश अंबानी के पास कृष्णा गोदावरी बेसिन से गैस सप्लाई करने का ठेका है. सरकार ने गैस की कीमत 4.20 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू तय की है, अनिल 2.34 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू की दर से गैस ख़रीदना चाहते थे.

अब सर्वोच्च अदालत के फ़ैसले पर दोनों पक्षों के रज़ामंदी जताई है.अनिल अंबानी ने कहा कि फैसले से उनकी कंपनी के करोड़ों शेयरधारकों के हितों की रक्षा हुई है. वहीं मुकेश अंबानी की कंपनी के एक्ज़ीक्यूटिव डायरेक्टर पीएमएस प्रसाद ने कहा, ''सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले से मुकेश राहत महसूस कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि अब इस विवाद को पीछे छोड़कर अगले वैल्यू क्रिएशन पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए. यह कड़वाहट दोनों पक्षों के लिए अच्छी नहीं है.''

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन: आभा मोंढे

संबंधित सामग्री