1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

गेहूं का नया जीन पता लगाने की कोशिश

ब्रिटेन के बायोटेक्नोलॉजी एंड बायोलॉजिकल साइंसेज रिसर्च काउंसिल के प्रधान डोग केल का कहना है कि हाल में गेहूं के बाजार में कीमतों में आई उछाल से स्पष्ट हो गया है कि हमारी खाद्य प्रणाली कितनी भंगुर है.

default

गेहूं पर रिसर्च

ये तो सभी को पता है कि आटे दाल का भाव बढ़ता जा रहा है, खासकर आटे का. ब्रिटेन की संस्था की ओर से गेहूं के जीन्स का पता लगाने के लिए एक शोध कार्यक्रम की मदद की गई. इस शोध से जुड़े वैज्ञानिकों ने गेहूं के पहले जीनोम का विवरण पेश किया. इसमें गेहूं के जेनेटिक कोड के तथाकथित अक्षर पेश किए गए. इस परियोजना से जुड़े जॉन इनेस सेंटर के प्रोफेसर माइक बेवन ने कहा कि अभी यह कच्चे रूप में हैं और परीक्षण जारी रहेंगे. लेकिन उनका कहना है कि परीक्षणों के पांच दौर के बाद जीनोम का बिल्कुल सही विवरण प्रस्तुत किया जा सकेगा.

जीनोम का पता लगाने के लिए चाइनीज स्प्रिंग्स नाम के गेहूं की नस्ल को चुना गया. आम तौर पर खेती के लिए इस नस्ल का उपयोग नहीं किया जाता, लेकिन गेहूं की समूची नस्ल के लिए इसे आदर्श माना गया. प्रोफेसर के अनुसार यह गेहूं के जगत का गिनीपिग जैसा है.

Flash-Galerie Afghanistan , Land und Leute

ब्रिस्टल विश्वविद्यालय के कीथ एडवर्ड्स ने इस सिलसिले में सूचित किया कि गेहूं का जीनोम मनुष्य के जीनोम से पांच गुना बड़ा है. इसलिए यह वैज्ञानिकों के लिए चुनौती है.

जीनोम की जानकारी मिलने के बाद पता लगाया जा सकेगा कि सूखा, बाढ़, कीड़ों या जमीन की किस्म का गेहूं की पैदावार पर क्या असर पड़ सकता है.

सिर्फ गेहूं ही नहीं, सेब के जीनों के बारे में भी वैज्ञानिकों को उल्लेखनीय जानकारी मिली है. इनके जरिए पता चला कि सेब की आज की नस्लें लगभग पांच से साढ़े छह करोड़ साल पुरानी हैं. इस परियोजना में पांच देशों की 13 संस्थाएं जुड़ी हुई थीं. उन्हें उम्मीद है कि इस जानकारी के आधार पर सेब की नई स्वादिष्ट नस्लें तैयार की जा सकती हैं.

रिपोर्टः उज्ज्वल भट्टाचार्य

संपादनः ए जमाल

WWW-Links