1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

वर्ल्ड कप

गेम्स फेडरेशन अध्यक्ष फेनल मिलेंगे पीएम से

कॉमनवेल्थ गेम्स से ठीक पहले गंदगी भरे कमरों, अधकचरी सुविधाओं और सुरक्षा में ढिलाई के आरोपों पर सरकार की चिंता और मेहमान देशों का पारा बढ़ा. गेम्स फेडरेशन के अध्यक्ष माइकल फेनल प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मिलेंगे.

default

दिल्ली खेलगांव में खिलाड़ियों का आना 23 सितम्बर से शुरु हो जाएगा लेकिन बेतरतीब व्यवस्था के चलते खिलाड़ियों का खेलों से बाहर होना जारी है. 440 मीटर रेस में गोल्ड मेडल जीतने वाले ब्रिटेन की क्रिस्टीन ओहरुओगु और ट्रिपल जंप चैंपियन फिलिप्स इदोवु ने कॉमनवेल्थ गेम्स से बाहर होने का फैसला किया है. खेलगांव की खराब हालत पर रिपोर्टें, नेहरू स्टेडियम के पास ओवरब्रिज का एक हिस्सा ढहने और सुरक्षा खतरे से खिलाड़ी डर गए हैं.

कॉमनवेल्थ गेम्स इंग्लैंड के चेयरमैन एंड्रयू फोस्टर ने चेतावनी दी है कि अगले 24-48 घंटे बेहद अहम है. "हम बेहद नाजुक स्थिति में हैं. जब तक हम पूरी तरह आश्वस्त नहीं हो जाते, खेलों के लिए हम अपनी टीम नहीं भेजेंगे." आधुनिक और आर्थिक ताकत के रूप में उभरते भारत की तस्वीर पेश करने वाले ये खेल दस दिन बाद शुरू होने हैं.

Indien Flash-Galerie Commonwealth Games Maskott

वेटलिफ्टिंग स्टेडियम में एक छत गिर गई हालांकि इस घटना में कोई घायल नहीं हुआ है. देश विदेश में खेलों के प्रति चिंता और उनके समय से होने पाने के बारे में आशंका बढ़ती जा रही है. दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने बताया है कि अगर कोई यह संदेश रहा है कि खेल पूरी तरह से ढह रहे हैं तो यह बात सच नहीं है.

2014 गेम्स स्कॉटलैंड में होने हैं और उसने अपने खिलाड़ियों के दिल्ली पहुंचने की योजना कुछ दिनों के लिए टाल दी है. टीम वेल्स का कहना है कि आयोजकों को उसने बुधवार देर शाम तक का समय दिया है ताकि खेल गांव और स्टेडियम को दुरुस्त कर लिया जाए.

भारतीय मीडिया ने खेल इंतजामों के प्रति मिली शिकायतों को राष्ट्रीय शर्म करार दिया है और इसके लिए जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई करने की मांग की है. दिल्ली में खेलों के दौरान 7,000 एथलीटों और अधिकारियों को आना है.

आयोजन समिति के महासचिव ललित भनोट अब भी आश्वस्त करने का प्रयास कर रहे हैं कि दिल्ली में खिलाड़ियों को बेहतरीन सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी लेकिन उनके इन दावों पर विश्वास न कर पा रहे लोगों की संख्या बढ़ रही है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: एम जी

WWW-Links

संबंधित सामग्री