1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

गुड़िया पर आतंकवाद का आरोप

मिस्र में सरकारी वकील टेलीफोन कंपनी वोडाफोन की जांच कर रहे हैं. कंपनी ने अपने विज्ञापन में एक गुड़िया इस्तेमाल किया है जो फोन पर बात करती दिखती है.

गुड़िया का नाम अबला फाहिता है और वीडियो में फाहिता टेलीफोन पर किसी से लंबी बात करती दिख रही है. मिस्र के एक राजनीतिक कार्यकर्ता का कहना है कि विज्ञापन के जरिए कुछ खुफिया कोड भेजे गए हैं जो सिर्फ मुस्लिम ब्रदरहुड संगठन के सदस्यों को समझ आएंगे और इसके जरिए मिस्र के ईसाइयों पर बम हमले करने की साजिश रची जा रही है. इस कार्यकर्ता का नाम अहमद स्पाइडर है और यह कहते हैं, "क्रिसमस का दिन बेहद कड़वा होगा क्योंकि अराजक तत्व मुर्सी के समर्थकों के साथ मिल कर बम धमाके करेंगे." मिस्र में कॉप्टिक ईसाई सात जनवरी को क्रिसमस मनाते हैं.

सांकेतिक भाषा का आरोप

वोडाफोन के विज्ञापन में कैक्टस का पौधा दिखाया गया है. स्पाइडर का कहना है कि चार शाखाओं वाले कैक्टस से मुर्सी समर्थकों के सलाम को दिखाने की कोशिश की जा रही है. कैक्टस से लटकने वाला गोला बम के गोले को दर्शाता है और क्रिसमस का खाना कार बम का संकेत है. एक टीवी इंटरव्यू पर स्पाइडर ने दावा किया कि ब्रिटेन की खुफिया एजेंसी इस साजिश के पीछे है. उन्होंने 'गुड़िया' को धमकी देते हुए कहा, "मैं तुम्हें जेल भेजूंगा या इस देश को ही छोड़ दूंगा." मिस्र में सोशल मीडिया ने भी स्पाइडर की खूब खिल्ली उड़ाई. कुछ कहते हैं कि अबला फाहिता और अमेरिकी मेंढक कर्मिट मिले हुए हैं और हमलों की साजिश कर रहे हैं.

स्पाइडर का दावा बेशक अजीब लगे लेकिन मिस्र के अधिकारी उसे गंभीरता से ले रहे हैं. अभियोजन पक्ष के वकीलों ने वोडाफोन अधिकारियों को बुलाया है लेकिन उन पर औपचारिक तौर पर कोई शिकायत दर्ज नहीं हुई हैं. वोडाफोन ने कहा कि स्पाइडर का नजरिया अपना है और वह इसके लिए जिम्मेदार नहीं है. लेकिन विज्ञापन में फोन पर बात कर रही गुड़िया वोडाफोन पर भारी पड़ रही है. मिस्र में इस साल जुलाई से हालात तनावपूर्ण हैं. सिनाई प्रायद्वीप में आए दिन हिंसक घटनाएं होती हैं और जुलाई में पूर्व राष्ट्रपति मुहम्मद मुर्सी के अपदस्थ होने के बाद से करीब 1000 लोग मारे गए हैं और हजारों गिरफ्तार हुए हैं.

पिछले हफ्ते मिस्र के अधिकारियों ने मुर्सी के मुस्लिम ब्रदरहुड को आतंकवादी संगठन घोषित किया और उस पर काहिरा में बम हमला करने का आरोप लगाया. इस हमले में 15 लोग मारे गए. ब्रदरहुड ने तो इससे इनकार किया है लेकिन अल कायदा ने धमाके की जिम्मेदारी ली.

एमजी/एजेए (एएफपी, डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री