1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

गिलानी पर केस चलाने को मंजूरी

भारत के गृह मंत्रालय ने कश्मीर के अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने के मामले में केस दर्ज करने की इजाजत दे दी है. गिलानी ने पिछले हफ्ते दिल्ली में एक सेमीनार में भाषण दिया था.

default

गृह मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक इस बारे में कानून विभाग से सलाह मांगी गई थी. विभाग ने कहा कि गिलानी और कुछ दूसरे लोगों के खिलाफ पहली नजर में भड़काऊ भाषण देने का मामला बनता है लिहाजा केस दर्ज किया जाना चाहिए.

सूत्रों ने बताया कि दिल्ली पुलिस को केस दर्ज करने के लिए कह दिया गया है और इस पर जल्दी ही कार्रवाई होगी. गिलानी कश्मीर लौट चुके हैं.

Syed Ali Shah Geelani Kaschmir

दिल्ली में दिए उनके भाषण पर मुख्य विपक्षी दल बीजेपी ने कड़ा ऐतराज जताया. बीजेपी नेता अरुण जेटली ने सरकार पर इस मामले को नजरअंदाज करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि दिल्ली में अलगाववादी समूह मिले और उन्होंन देश को तोड़ने की बात की जबकि सरकार दूसरी तरफ देखती रही.

जेटली ने कहा, "देश को तोड़ने के लिए बोलना अभिव्यक्ति की आजादी नहीं है. यह हमारी संप्रभुता और एकता के खिलाफ है और कोई अगर अपनी अभिव्यक्ति की आजादी का इस्तेमाल ऐसे कामों में करता है तो वह आपराधिक कानून के तहत आता है."

हालांकि गृह मंत्री पी चिदंबरम ने बीजेपी नेता के आरोपों को खारिज कर दिया. उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस कानून के तहत गिलानी के खिलाफ कार्रवाई करेगी. चिदंबरम ने कहा, "मैं अरुण जेटली के इस आरोप को सिरे से खारिज करता हूं कि जब एक सेमीनार में गिलानी और दूसरे लोग मिले तो सरकार कुछ नहीं कर रही थी. अधिकारियों ने इस सेमीनार की वीडियो रिकॉर्डिंग की है और अगर पहली नजर में कुछ भी गैरकानूनी मिला तो कार्रवाई की जाएगी."

21 अक्तूबर को हुए इस सेमीनार में गिलानी ने लेखिका अरुंधति रॉय और माओवादी समर्थक नेता वारा वारा राव के साथ मंच साझा किया और भाषण दिया. उनके भाषण के दौरान काफी हंगामा हुआ और उन पर जूता भी फेंका गया.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः एन रंजन

DW.COM

WWW-Links