1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

गाब्रिएल गार्सिया मार्केस की हालत नाजुक

कोलंबिया के जाने माने लेखक और नोबेल पुरस्कार विजेता गाब्रिएल गार्सिया मार्केस की अस्पताल से छुट्टी के बाद भी हालत नाजुक है. परिवार वालों का कहना है कि उनकी उम्र उनका साथ नहीं दे रही.

87 साल के मार्केस को पिछले हफ्ते ही मेक्सिको सिटी के अस्पताल से छुट्टी मिल गयी थी. उन्हें फेफडों में संक्रमण की शिकायत थी जिस कारण उन्हें आठ दिन साल्वादोर जुबिरान क्लिनिक में बिताने पड़े. पत्नी मर्सिडीस बार्चा और बेटे रोड्रिगो और गोनजालो का कहना है कि पिछले एक हफ्ते से उनकी हालत भले ही स्थिर रही हो लेकिन उनकी सेहत बिगड़ने का खतरा लगातार बना हुआ है.

स्थानीय अखबार में छपी रिपोर्ट के अनुसार मार्केस का लिम्फैटिक ग्लैंड का कैंसर बिगड़ गया है. परिवार ने मीडिया से अनुरोध किया है कि उसकी निजता का सम्मान किया जाए. 1999 में पहली बार मार्केस को कैंसर होने की बात सामने आई. उसके बाद से मार्केस सार्वजनिक क्षेत्र से दूर होते गए. उनकी आखिरी किताब 'मेमरीज ऑफ माई मेलंकली होर्स' 2004 में प्रकाशित हुई.

मार्केस पिछले तीन दशक से मेक्सिको में रह रहे हैं. वे लातिन अमेरिका के सबसे चर्चित लेखकों में शामिल हैं. 1960 के दशक से ही मार्केस ने साहित्य जगत में अपनी पहचान बना ली थी. 1982 में उन्हें साहित्य के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया. उनके उपन्यासों ने दुनिया भर में लोगों का दिल जीता, खासकर 'वन हंड्रेड ईयर्स ऑफ सॉलीट्यूड', 'लव इन द टाइम ऑफ कॉलेरा' और 'ऑफ लव एंड अदर डीमंस'.

मार्केस के सहयोगी का कहना है कि बीमारी के कारण उनकी याददाश्त पर भी बुरा असर पड़ा है.

आईबी/एमजी (एएफपी, डीपीए)