1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

गांगुली को जानबूझ कर बाहर किया गया: सोमनाथ

सौरव गांगुली को लेकर बंगाल में लोगों को समर्थन बढ़ता जा रहा है. अब दिग्गज और सम्मानित नेता भी दादा के पक्ष में उतर आए हैं. कहा जा रहा है कि आईपीएल के टीम मालिकों ने जानबूझ कर गांगुली को किनारे किया. कोलकाता में प्रदर्शन.

default

कोलकाता नाइट राइडर्स के मालिक शाहरुख खान के खिलाफ कोलकाता में लगातार दूसरे दिन प्रदर्शन हुए. कई जगहों पर शाहरुख खान के पुतले फूंके गए. अब सौरव गांगुली के समर्थन में बंगाल के कई प्रतिष्ठित और मशहूर लोग भी उतर आए हैं.

सोमवार को पूर्व लोकसभा अध्यक्ष और वरिष्ठ नेता सोमनाथ चटर्जी ने दादा के लिए बल्लेबाजी की. उन्होंने आरोप लगाया कि गांगुली को राजनीति करके आईपीएल से बाहर किया गया है. चटर्जी ने कहा, ''यह वाकई में दुख पहुंचाने वाला है. गांगुली जैसे क्षमतावान खिलाड़ी को जानबूझ कर खेलने नहीं दिया जा रहा है. नीलामी में साफ हो गया था कि आईपीएल टीमों के मालिकों ने जानबूझ कर गांगुली के लिए बोली नहीं लगाई.''

Sourabh Ganguly in Uttroyan in Siliguri

भारतीय टीम के सबसे सफल कप्तान रह चुके गांगुली पिछले तीन साल से कोलकाता नाइट राइडर्स का हिस्सा थे. आईपीएल की शुरुआत के वक्त ही उन्हें आधार बनाकर कोलकाता टीम की शुरुआत की गई थी. आईपीएल-3 में कोलकाता के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने के बावजूद गांगुली को टीम ने बाहर कर दिया. नीलामी में उन्हें खरीदने में किसी ने दिलचस्पी नहीं दिखाई. नीलामी के दूसरे दिन तो दादा के नाम का जिक्र तक नहीं हुआ.

इससे गांगुली और उसके प्रशंसक खासे आहत हुए हैं. बंगाल में हर तरफ गांगुली के प्रति संवेदना और बॉलीवुड के बांके के प्रति आक्रोश दिखाई दे रहा है. इंटरनेट पर भी बहस छिड़ी हुई है. माना जा रहा है गांगुली को मनाए बिना नाइट राइडर्स और उसके मालिक शाहरुख खान के लिए कोलकाता में खेलना मुश्किल हो जाएगा.

हालांकि विवाद बढ़ता देख शाहरुख खान ने कूटनीतिक पलटी मारी है. नीलामी खत्म होने के बाद उन्होंने गांगुली को अपनी टीम का अभिन्न हिस्सा बताया है. शाहरुख का कहना है कि गांगुली टीम का हिस्सा बने रहेंगे. लेकिन कैसे यह नहीं बताया है. वैसे शाहरुख खान के बयान पर दादा ने कोई जवाब नहीं दिया है. माना जा रहा है कि गांगुली का छक्का अब सीधे शाहरुख खान पर लगेगा.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन: एन रंजन

DW.COM

WWW-Links