1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

गजा में हमले बढ़ाने को तैयार इस्राएल

इस्राएल ने कहा है कि वह गजा पर हमलों की संख्या बढ़ाने की तैयारी में है. दोनों हिस्सों के बीच पांच दिन से संघर्ष चल रहा है. दुनिया भर के नेताओं ने शांति समझौते की अपील की है.

इस्राएल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने रविवार को कहा कि उनका देश गजा पट्टी पर सैन्य हमलों की संख्या बढ़ाने के लिए तैयार है, "हम हमास और आतंकी संगठनों की बड़ी कीमत चुका रहे हैं. सेना ऑपरेशन बढ़ाने के लिए तैयार है."

दुनिया के नेताओं की सलाह के बारे में नेतन्याहू का कहना है, "इस्राएल की रक्षा के अधिकार को समझने के लिए हम उनकी सराहना करते हैं."

नेतन्याहू का बयान ऐसे समय आया है जब गजा की सीमा पर कई सौ इस्राएली सैनिक तैनात किए गए हैं. इससे संदेह बढ़ रहा है कि इस्राएल जमीनी कार्रवाई करना चाहता है. इस्राएल के चैनल टू टेलीविजन ने कहा कि कैबिनेट ने करीब 75 हजार सैनिकों को बुलाने का प्रस्ताव पारित कर दिया है.

हवाई हमले

उधर गजा और इस्राएल के बीच रविवार को भी हवाई हमले जारी रहे. पुलिस प्रवक्ता लुबा सामरी के हवाले से एएफपी समाचार एजेंसी ने लिखा, "दो रॉकेटों को आयरन डोम सिस्टम ने मार गिराए." सामरी की टिप्पणी इस्राएल के तेल अवीव में सायरन बजने के बाद आई.

पत्रकार घायल

गजा में इस्राएली हवाई हमले में ऐसी इमारत नष्ट हुई जिसमें स्थानीय मीडिया के ऑफिस थे. इसमें फलीस्तीनी टीवी अल कद्स के तीन पत्रकार घायल हुए हैं. अभी तक करीब 50 फलीस्तीनी मारे गए हैं. इस्राएल ने गजा पर करीब 1000 हमले किए हैं. गुरुवार को तीन इस्राएली नागरिक मारे गए थे. गजा से इस्राएल पर करीब 500 हमले हुए हैं.

संघर्ष विराम की कोशिश

काहिरा में बैठक के बाद भी रविवार को हिंसा जारी रही. मिस्र के राष्ट्रपति मोहम्मद मुर्सी और उनके सुरक्षा अधिकारियों ने हमास के साथ संघर्ष विराम के मध्यस्थता की थी. मुर्सी ने कहा, "जल्दी ही सीजफायर होने के संकेत हैं लेकिन हमारे पास अभी कोई गारंटी नहीं है."

शुक्रवार को ओबामा ने इस्राएल की आत्मरक्षा का समर्थन किया था. इसके बाद उन्होंने अपनी थाईलैंड यात्रा के दौरान भी एक बार फिर यह बात की है.

जर्मनी की चांसलर अंगेला मैर्केल ने नेतन्याहू से फोन पर बात की और शांति समझौते पर पहुंचने के महत्व पर जोर दिया. उन्होंने कहा, "पूर्ण संघर्ष विराम पर सहमति होनी चाहिए. जितनी जल्दी संभव हो यह समझौता होना चाहिए ताकि लोगों की जान न जाए."

उधर संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की मून ने कहा है कि वह मिस्र के राष्ट्रपति और विदेश मंत्रालय से बात करने वहां पहुंचेंगे.

एएम/एजेए (रॉयटर्स, एएफपी, डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री