1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

गजा में संघर्षविराम के पक्ष में जर्मनी

जर्मनी का मानना है कि मध्य पूर्व में शांति के लिए फौरन संघर्षविराम होना चाहिए. लेकिन वह समझता है कि इसके लिए गजा की तरफ से रॉकेट हमले बंद होने जरूरी हैं. जर्मन विदेश मंत्री ने अपने इंटरव्यू में यह बात कही.

मध्य पूर्व के दौरे पर जाने से जर्मन विदेश मंत्री गीडो वेस्टरवेले ने डॉयचे वेले की सहयोगी मीडिया संस्था एआरडी के उलरिष डेपेनडॉर्फ से बात की. पेश है उस बातचीत का अंश.

डेपेनडॉर्फः जबरदस्त जंग चल रही है और 60 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. आप का तेल अवीव का दौरा है. क्या आपको लगता है कि वहां की स्थिति सुधर सकती है.

वेस्टरवेलेः सबसे जरूरी है कि हमें इस तरह काम करें कि संघर्षविराम की संभावना बने. मैंने फलीस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास से बात की है. हम सभी इस बात को मानते हैं कि जल्द से जल्द संघर्षविराम की आवश्यकता है और उसके लिए शर्तें तैयार करनी होंगी. लेकिन बात यह है कि गजा की तरफ से महीने भर से दक्षिणी इस्राएल में रॉकेट दागे जा रहे हैं. सबसे पहली शर्त तो यही है कि ये हमले बंद हों.

डेपेनडॉर्फः मिस्र की सरकार ने हमेशा से वहां अहम भूमिका अदा की है. आप क्या समझते हैं कि वहां की मौजूदा मुर्सी सरकार ए) चाहती है और बी) इस स्थिति में है कि हमास को सीमित कर सके.

वेस्टरवेलेः मुझे लगता है कि मिस्र की सरकार अपनी जिम्मेदारी समझती है. मैंने भी कई बार नए राष्ट्रपति मुर्सी से बात की है. मुझे लगता है कि वह पूरे मध्य पूर्व मामले में मिस्र की अहमियत एक बार फिर बढ़ाना चाहते हैं. लेकिन इसमें एक बात यह भी है कि मिस्र की ओर से निश्चित तौर पर गजा में हथियारों की सप्लाई हुई है. इसे फौरन रोका जाना चाहिए क्योंकि उसी की वजह से यह सब कुछ हो रहा है. मैं यह भी कहता हूं कि इस्राएल का कहना है कि अगर रॉकेट हमले बंद नहीं होते, तो वह कार्रवाई करेगा. दक्षिणी इस्राएल में पिछले कुछ महीनों में सैकड़ों बार रॉकेट हमले हुए हैं और इस्राएल को अपने नागरिकों की सुरक्षा का पूरा अधिकार है.
डेपेनडॉर्फः लेकिन इंग्लैंड के विदेश मंत्री विलियम हेग ने नेतन्याहू की सरकार को चेतावनी दी है, कि इस्राएल जमीनी हमला करे. आप इस बारे में क्या कहते हैं.


वेस्टरवेलेः यह जरूरी है कि हम सभी संघर्षविराम पर बात करें लेकिन इसके लिए कुछ शर्तों को पूरा करना होगा. और सबसे अहम शर्त यह है कि गजा की तरफ से दक्षिणी इस्राएल में रॉकेट हमले बंद हों. क्योंकि इससे बहुत ज्यादा लोग प्रभावित हो रहे हैं. हम सब लोगों से अपील करते हैं कि वे सोच समझकर और तनाव को कम करते हुए कार्रवाई करें और आम लोगों की जान को सुरक्षित करने को प्राथमिकता दें. लेकिन इस्राएल ऐसी हालत में चुप नहीं बैठ सकता, जब उसके नागरिकों पर सैकड़ों रॉकेट दागे जा रहे हों. और ऐसा सिर्फ एक बार नहीं, बल्कि इसकी संख्या पिछले महीनों में लगातार बढ़ती जा रही है. और इसलिए हम कह रहे हैं कि इस समय की मांग है कि तनाव को कम करने की जरूरत है और यह काम तभी हो सकता है, जब इस्राएल पर रॉकेट हमले बंद हों.

इंटरव्यूः उलरिष डेपेनडॉर्फ/एजेए

संपादनः मानसी गोपालकृष्णन

DW.COM