1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

गंभीर, नेहरा के श्रीलंका जाने पर नाराज़गी

चोट के आयुर्वेदिक इलाज के लिए आशीष नेहरा और गौतम गंभीर के श्रीलंका जाने से स्वास्थ्य मंत्रालय नाराज़ है. मंत्रालय के मुताबिक़ भारत में आयुर्वेदिक इलाज की बेहतर सुविधाएं हैं और खिलाड़ियों का वहां जाना सही संदेश नहीं देता.

default

न्यूज़ एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि डिपार्टमेंट ऑफ़ आयुर्वेद योग नेचरोपैथी यूनानी सिद्ध एंड होम्योपैथी (आयुष) के एक अधिकारी ने खेल मंत्रालय को इस संबंध में एक ख़त भी लिखा है. भारतीय चिकित्सा पद्धति के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय में अलग से विभाग है जिसे आयुष नाम दिया गया है.

Ashish Nehra

आयुष के एक अधिकारी का कहना है कि गौतम गंभीर और आशीष नेहरा का इलाज भारत के डॉक्टर ही अच्छी तरह कर सकते थे इसके बावजूद उन्होंने श्रीलंका जाने का फ़ैसला लिया. शायद यही कारण है कि गंभीर और नेहरा का इलाज के लिए कोलंबो जाना स्वास्थ्य मंत्रालय के गले नहीं उतर रहा है.

रिपोर्टों के मुताबिक़ मंत्रालय का मानना है कि भारत आयुर्वेद के क्षेत्र में जाना पहचाना नाम है और ऐसे में खिलाड़ियों का बाहर जाना सही नहीं कहा जा सकता. कॉमनवेल्थ खेलों से पहले स्वास्थ्य मंत्रालय आयुर्वेद और इलाज की अन्य भारतीय पद्धतियों को बढ़ावा देना चाहता है और ख़त में खिलाड़ियों से मदद की अपील भी की गई है.

गंभीर और नेहरा पिछले महीने आयुर्वेदिक इलाज के लिए श्रीलंका गए थे. श्रीलंका के राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे ने दोनों की आवभगत की और उन्हें श्रीलंका सरकार के विशेष मेहमान का दर्जा दिया गया था. गंभीर और नेहरा का इलाज एलियंथा व्हाइट ने किया.

स्वास्थ मंत्रालय की नाराज़गी और ख़त मिलने के बाद बीबीसीआई भी हरकत में आ गया है. बीसीसीआई ने इंडियन प्रीमियर लीग में डेल्ही डेयरडेविल्स टीम के मैनेजमेंट को कारण बताओ नोटिस जारी किया है. डेयरडेविल्स प्रबंधन से पूछा गया है कि बीसीसीआई की पूर्व अनुमति के बिना गौतम गंभीर और आशीष नेहरा को उनकी चोट के इलाज के लिए कैसे श्रीलंका भेज दिया गया.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: ए कुमार

संबंधित सामग्री