1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

गंभीर की कप्तानी में न्यूजीलैंड से जंग

5 वनडे मैचों की सीरीज वर्ल्ड कप से पहले हाशिए पर चल रहे खिलाड़ियों को टीम में जगह पक्की करने का एक मौका देगी. यह आसान भी नही क्योंकि मेहमान टीम बांग्लादेश के हाथों मिली 4-0 से हार का कलंक अपने माथे से धोने को बेकरार है.

default

धोनी नहीं, गंभीर कप्तान

वनडे मुकाबलों के लिए मेहमान टीम के तरकस में जहां स्कॉट स्टाइरिस, रॉस टेलर और कप्तान वेटोरी जैसे तीर हैं तो टीम इंडिया नए खिलाड़ियों को आजमाने जा रही है. कप्तान महेंद्र सिंह धोनी खुद तो आराम करेंगे ही, सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग, जहीर खान और हरभजन सिंह भी इस दौरान आराम ही फरमाएंगे.

सहवाग की गैर मौजूदगी में सलामी बल्लेबाज मुरली विजय होंगे जबकि मध्यक्रम को संभालने की जिम्मेदारी विराट कोहली, सुरेश रैना युवाओं की टीम में सबसे सीनियर युवराज सिंह पर होगी. युवराज पर सबकी निगाहें टिकी होंगी क्योंकि उन्हें वर्ल्ड कप की दौड़ में वापस आने के लिए अच्छा खेल दिखाना होगा. बीसीसीआई के साथ अब बी श्रेणी के करार से जुड़े पंजाब के युवराज सिंह पूरे दम खम के साथ वापसी करने को बेताब हैं और समीकरण कह रहे हैं कि उन्हें इस सीरीज में कुछ मैच जिताऊ पारियां खेलनी पड़ेंगी.

अच्छी फॉर्म में चल रहे विराट कोहली को भी अपना प्रदर्शन बनाए रखना होगा क्योंकि उन्हें टीम में बने रहने के लिए अपने ही देश के खिलाड़ियों से मुकाबला करना है. करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन विराट ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ विशाखापत्तनम में दिखाया था जब उनके बल्ले से 119 रन की पारी निकली. इसी दमदार पारी के बल पर मिली जीत से टीम इंडिया सीरीज 1-0 से अपने नाम कर सकी. कोहली ने रणजी में भी अच्छा खेल दिखाया है और तमिलनाडु और बंगाल में लगातार दो मैचों में शतक लगाए.

वर्ल्ड कप को ध्यान में रख चयनकर्ताओं ने यूसुफ पठान को भी टीम में जगह दी है. यूसुफ ने वडोदरा के लिए बल्ले और गेंद दोनों से अच्छा खेल दिखाया है. वर्ल्ड कप में जगह बनाने के लिए पठान की सीधी टक्कर रवींद्र जडेजा से है जो टीम में ऑलराउंडर की जगह बनाने की दौड़ में हैं. बंगाली विकेटकीपर वृद्धिमान साहा के लिए भी यह सीरीज काफी मायने रखती है. धोनी की गैर मौजूदगी में पहली बार रविवार को साहा टीम में विकेट कीपिंग करेंगे.

रोहित शर्मा के जख्मी होने के बाद साहा को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट और पहले दो वनडे के लिए टीम में जगह मिल गई थी. विकेट के पीछे और बल्ले के साथ विकेट के आगे दोनों जगहों पर उनके प्रदर्शन चयनकर्ताओं की निगाहों में हैं. फिरकी गेंदबाज आर आश्विन हरभजन और प्रज्ञान की गैर मौजूदगी में श्रीसंत, आशीष नेहरा के साथ हमलों की कमान संभालेंगे. टीम में विनय कुमार और मुनाफ पटेल में से भी कोई एक होगा.

पहले दो मैचों में कप्तानी का जिम्मा संभालने जा रहे गौतम गंभीर ने इससे पहले आईपीएल की दिल्ली डेयरडेविल्स और दिल्ली की रणजी टीम की कप्तानी का जिम्मा संभाल चुके हैं. पहली बार राष्ट्रीय कप्तानी टीम का जिम्मा संभालने जा रहे गंभीर का उत्साह बार बार छलक रहा है. वह कहते हैं," मैं बहुत उत्साहित हूं. यह किसी भी खिलाड़ी के लिए अपने देश की टीम के नेतृत्व करने के सपने का सच होना है. उम्मीद है कि एक टीम के रूप में और निजी रूप से दोनों जगह मैं अच्छा प्रदर्शन कर सकूंगा. उम्मीद है कि हम यह सीरीज जीतेंगे."

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links