1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

खोरोकोस्की पर अमेरिका ने रूस को लताड़ा

अमेरिका ने कहा है कि मिखाइल खोरोकोस्की मामले में रूस का निष्पक्षता का दावा पूरा नहीं हुआ है. अमेरिका का मानना है कि फैसला पूरी निष्पक्षता के साथ नहीं दिया गया. सोमवार को खोरोकोस्की दूसरे मामले में दोषी करार.

default

मिखाइल खोरोकोस्की

सोमवार को पूर्वी युकोस तेल कंपनी को दोषी ठहराया गया और उसके सह प्रतिवादी प्लातोन लेबेदेव पर गबन और पैसे को गैर कानूनी रूप से बाहर भेजने के आरोप साबित हुए हैं. उन पर 1998 से 2003 के बीच खोरोकोस्की की युकोस तेल कंपनी से 21.8 करोड़ टन तेल के गबन करने के आरोप लगे थे.

व्हाइट हाउस के प्रवक्ता रॉबर्ट गिब्स ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने खोरोकोस्की मामला और दूसरे मुकदमों के बारे में रूस के राष्ट्रपति दिमित्री मेद्वेदेव से कई बार बातचीत की है.

गिब्स ने बयान में कहा कि ओबामा ने गलत काम के लिए न्यायिक प्रणाली का इस्तेमाल होने की आशंका पर चिंता जताई. इन लोगों के खिलाफ चुनिंदा जगहों पर ही कानून लागू करने से रूस की साफ सुथरी और न्यायप्रिय छवि को हानि पहुंचती है. इससे पहले अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने कानून को राजनीतिक लक्ष्य के लिए इस्तेमाल करने के बारे में चिंता जताई थी.

अमेरिकी राष्ट्रपति और विदेश मंत्रालय ने कहा है कि मेद्वेदेव रूस के न्यायालय को उदार बनाने का वादा कर चुके हैं और वह इसे पूरा नहीं कर रहे.

अदालत के इस फैसले पर सबकी नजर थी. खासकर इससे संकेत मिलता है कि प्रधानमंत्री व्लादिमीर पुतिन और राष्ट्रपति दिमित्री मेद्वेदेव के नेतृत्व में रूस किस दिशा में जाएगा. काफी समय से अटकलें जारी हैं कि पुतिन 2012 में फिर से राष्ट्रपति चुनाव लड़ कर क्रेमलिन में लौटना चाहते हैं. किसी जमाने में रूस के सबसे अमीर व्यक्ति रहे 47 वर्षीय खोरोकोस्की अब सबसे अहम कैदी हैं.

मिखाइल खोरोकोस्की हेराफेरी से आरोपों में आठ साल से जेल में हैं. अगले साल उन्हें रिहा होना था. लेकिन पिछले साल ही उन पर गबन और पैसे को अवैध रूप से बाहर भेजने के आरोप में नया मुकदमा शुरू हुआ. संभावना है कि उन्हें 2017 तक जेल में रहना पड़ सकता है.

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः वी कुमार

DW.COM

WWW-Links