1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

वर्ल्ड कप

खेलों के दौरान हमलों का गंभीर खतरा: ऑस्ट्रेलिया

कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान सुरक्षा व्यवस्था के प्रति आशंकित नजर आ रहे ऑस्ट्रेलिया ने अपनी चिंता का स्तर और बढ़ा दिया है. ऑस्ट्रेलिया ने खेलों के दौरान आतंकवादी हमलों का गंभीर खतरा बताया है. न्यूजीलैंड ने भी जताई है चिंता.

default

दिल्ली में रविवार को जामा मस्जिद के पास विदेशी पर्यटकों पर गोलीबारी के घटना के बाद से सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े हो गए हैं. इस घटना में दो पर्यटक घायल हुए. ऐसे में ऑस्ट्रेलिया के विदेश मंत्रालय ने भारत यात्रा के लिए सलाह जारी करते हुए कहा, "भारत में ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों को जागरूक रहना चाहिए कि खेल ऐसे माहौल में होंगे जहां आतंकवादी हमलों का गंभीर खतरा है. निजी सुरक्षा पर ध्यान दें और सुरक्षा संबंधी जानकारियों के लिए मीडिया का सहारा लें."

ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्रालय के मुताबिक भारत में आतंकवादी हमले किसी भी समय बिना किसी चेतावनी के हो सकते हैं. "खुफिया एजेंसियां हमें लगातार आगाह कर रही हैं कि आतंकवादी भारत में सार्वजनिक स्थलों, होटलों, पर्यटक केंद्रों को निशाना बना सकती हैं. दिल्ली, मुंबई और अन्य बड़े शहरों पर खतरा है. आतंकवादी भारत के राजनीतिक और सुरक्षा हितों पर भी चोट करने की साजिश रच रहे हैं."

ऑस्ट्रेलिया के खेल मंत्री मार्क आर्बिब ने खिलाड़ियों से आग्रह किया है कि खेलों के दौरान उन्हें भी गहरी सावधानी बरतने की जरूरत है. दिल्ली में रविवार को जामा मस्जिद के पास फायरिंग में दो सैलानियों के घायल होने के बाद आयोजन समिति ने बयान जारी कर भरोसा दिलाया कि खेलों के दौरान पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था होगी लेकिन कुछ देशों में चिंता बढ़ गई है.

न्यूजीलैंड के प्रधानमंत्री जॉन की ने कहा है कि सुरक्षा स्थिति पर नजर रखी जा रही है. वैसे न्यूजीलैंड ने कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लेने की प्रतिबद्धता जाहिर की है. "हम न्यूजीलैंड ओलंपिक समिति को ज्यादा से ज्यादा जानकारी मुहैया कराने की कोशिश कर रहे हैं. उन्हें 24 सितम्बर तक फैसला करना है कि दिल्ली की यात्रा की जाए या फिर नहीं."

वैसे न्यूजीलैंड एथलीट्स फेडरेशन के प्रमुख रॉब निकोल ने कहा है कि फायरिंग की घटना से अफरातफरी नहीं फैलनी चाहिए. "हमें संयम बनाए रखने और व्यवस्था में विश्वास बनाए रखने की जरूरत है. चिंता की बात जरूर है लेकिन इसके चलते हमें बिलकुल विपरीत फैसला नहीं ले लेना चाहिए. अगर एथलीट जा रहे हैं और खेल हो रहे हैं तो सुरक्षा व्यवस्था का भी इंतजाम करना होगा."

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: आभा एम

DW.COM

WWW-Links