1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

खेलें हम... भी कम ग्लैमरस नहीं: दीपिका

सादी सी साड़ी और बालों में दो चोटी बनाए लड़की मिनी स्कर्ट और दूसरी ग्लैमरस ड्रेस पहने वालियों से ज्यादा नहीं तो कम ग्लैमरस भी नहीं. दीपिका पादुकोण तो यही मानती हैं. नई फिल्म में दीपिका का नया लुक भी ऐसा ही है.

default

आशुतोष गोवारिकर की नई फिल्म खेलें हम जी जान से में दीपिका पादुकोण गांव की गोरी बनी हैं. कल्पना दत्ता नाम की ये गोरी स्वतंत्रता सेनानी है. दीपिका साड़ी पहनने वाली इस किरदार को अपनी दूसरी फिल्मों से कम ग्लैमरस नहीं मानती.

दीपिका के मुताबिक, "फिल्म में मेरा लुक थोड़ा अलग हो सकता है लेकिन मैं नहीं मानती कि मेरी दूसरी फिल्मों की तुलना में ये कम ग्लैमरस है. भारतीय महिलाओं के लिए सबसे ग्लैमरस पहनावा साड़ी ही है." राजधानी दिल्ली में फिल्म का प्रचार करने आईं दीपिका ने पत्रकारों से ये बात कही. आशुतोष की नई फिल्म 1930 के चटगांव आंदोलन पर बनी है. ये आंदोलन अविभाजित बंगाल में शुरु हुआ. फिल्म के ट्रेलर और अब तक सामने आई तस्वीरों में दीपिका सादी साड़ी पहने नजर आ रही हैं और उनके बाल दो चोटियों में गुंथे हैं.

Deepika Padukone

साड़ी कम ग्लैमरस नहीं

इन चोटियों के बारे में दीपिका कहती हैं, "आखिरी बार मैं ने अपने बालों में दो चोटी स्कूल के दिनों में की थी और मुझे ये बिल्कुल पसंद नहीं. फिल्म की सबसे मुश्किल बात यही थी कि मुझे दो चोटियां करनी थी क्योंकि फिल्म दर्शकों को 1930 के दौर में ले जाती है. इसके बगैर फिल्म बनाने का मकसद पूरा नहीं हो सकता था."

दीपिका के मुताबिक फिल्म के लिए उन्हें खास ज्यादा रिसर्च या तैयारी नहीं करनी पड़ी क्योंकि वो आशुतोष के निर्देशों पर ही चलती गईं. दीपिका ने कहा, "भारतीय इतिहास में इस आंदोलन की चर्चा कम ही होती है और इसलिए हमारे पास कोई पैमाना नहीं था कि कल्पना कैसी थी. हमारे पास बस कुछ तस्वीरें ही थी. बाकी चीजों के लिए मैं आशुतोष जी पर निर्भर थी जिन्होंने इस विषय पर काफी रिसर्च किया है."

फिल्म के पहले दृश्य में दीपिका अपनी सहेली विशाखा के साथ बैडमिंटन खेलती नजर आती हैं. दीपिका कहती हैं कि इस शॉट के लिए मुझे अपनी बैडमिंटन की प्रोफेशनल ट्रेनिंग को भूलना पड़ा, "1930 की कल्पना बन कर साड़ी में बैडमिंटन खेलना काफी मुश्किल काम था, मैं किसी पेशेवर की तरह नहीं खेल सकती थी मुझे अपनी ट्रेनिंग भूलनी पड़ी. " दीपिका पूर्व बैडमिंटन चैम्पियन प्रकाश पादुकोण की बेटी हैं और खुद भी बैडमिंटन में राज्य स्तर की खिलाड़ी रह चुकी हैं.

24 साल की दीपिका ने फराह खान की ओम शांति ओम से फिल्मी गलियों में कदम रखा. बचना ऐ हसीनों, लव आज कल से होता हुए ये सफर पीरियड फिल्म खेलें हम जी जान से तक पहुंचा है. दीपिका इस फिल्म के जरिए पहली बार ऐसे रूप में सामने आएंगी जो आधुनिकता की चकाचौंध से दूर है पर उनकी मानें तो ग्लैमर इसमें भी कम नहीं.

खेलें हम जी जान में दीपिका के साथ अभिषेक बच्चन और सिकंदर खेर भी हैं. फिल्म 3 दिसंबर को भारत में पर्दे पर उतरेगी.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः महेश झा

DW.COM

WWW-Links