1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

वर्ल्ड कप

खेलगांव की हालत से मेहमान देश नाराज

कॉमनवेल्थ गेम्स फेडरेशन के अध्यक्ष माइकल फेनल ने भारत सरकार से खेलगांव में सुविधाओं को तुरंत बेहतर करने की मांग की है. खेलगांव के कुछ हिस्सों में काम पूरा न होने और अधकचरी सुविधाओं से कई देशों के प्रतिनिधियों को झटका.

default

कॉमनवेल्थ गेम्स शुरू होने में 12 दिन का समय बचा है और खेलगांव में सुविधाओं पर सवाल उठने शुरू हो गए हैं. कुछ ही दिन पहले जब खेलगांव का उदघाटन हुआ तो अधिकतर देशों के प्रतिनिधियों ने उसकी तारीफ में कसीदे गढ़ते हुए उसे मेलबर्न और मैनचेस्टर के खेलगांवों से भी बेहतर बताया. सुरेश कलमाड़ी ने भी कहा कि खिलाड़ियों को किसी भी बात की कमी महसूस नहीं होने दी जाएगी. लेकिन एक दो दिन बाद अब तस्वीर रंग बदल रही है.

न्यूजीलैंड और कनाडा सहित कुछ अन्य देशों के प्रतिनिधियों ने जब उन जगहों का दौरा किया जहां खिलाड़ियों को रहना है तो उन्हें वहां सुविधाओं की कमी के साथ साथ गंदगी के भी दर्शन हो गए. उन्हें महसूस हुआ कि काम को हड़बड़ी में पूरा किया गया है. खिलाड़ियों के लिए स्वस्थ माहौल का अभाव अन्य देशों के लिए सिरदर्द खड़ा हो गया है.

एक बयान में फेनल ने कहा है कि खिलाड़ियों का पहला जत्था गुरुवार को आना है और उससे पहले स्थिति को दुरुस्त करने के लिए जरूरी कदम उठाए जाने चाहिए. "कॉमनवेल्थ गेम्स विलेज का दौरा करने के बाद हमारी कुछ चिंता बढ़ी है. हमने उन जगहों का दौरा अन्य प्रतिनिधियों के साथ किया जहां खिलाड़ियों को रूकना है. अभी कई काम होने बाकी है और इसके चलते हमने भारत के कैबिनेट सचिव को हमारी चिंताओं से अवगत करा दिया है."

फेनल के कड़े बयान से पहले न्यूजीलैंड, कनाडा, स्कॉटलैंड और आयरलैंड ने खेलगांव के रिहायशी इलाके में फैली गंदगी पर गहरी चिंता जताई. फेनल का कहना है कि खेलगांव किसी भी खेल आयोजन का सबसे अहम हिस्सा होता है और खिलाड़ियों को बेहतरीन सुविधाएं दी जानी चाहिए. फेनल का कहना है कि खेलगांव की स्थिति ऐसी इसलिए है क्योंकि बार बार समयसीमा बदले जाने के बावजूद काम समय से पूरा नहीं हुआ.

अब खेलगांव के आसपास सुरक्षा मजबूत की गई है और इससे काम पूरा होने की प्रक्रिया और धीमी हो गई है. रविवार को दिल्ली में फायरिंग की घटना के बाद कॉमनवेल्थ गेम्स फेडरेशन के अध्यक्ष माइक फेनल ने दोहराया है कि सुरक्षा व्यवस्था अब भी एक बड़ी चुनौती है और यही सबसे बड़ी चिंता है. दिल्ली में जामा मस्जिद के पास विदेशी पर्यटकों पर फायरिंग में दो पर्यटक घायल हो गए.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: ओ सिंह

DW.COM

WWW-Links