1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

खून निकालने से घटता है बीपी

रोमन सभ्यता में शरीर से खून निकाल कर ब्लड प्रेशर काबू करने में सफलता पाई गई थी, लेकिन इस इलाज से अमेरिका के राष्ट्रपति जॉर्ज वॉशिंगटन समेत कई लोगों की मौत भी हुई. अब कुछ जर्मन रिसर्चर नए सिरे से इसके फायदे बता रहे हैं.

बर्लिन के चैरिटी मेडिकल कॉलेज के रिसर्चर रक्तचाप के कई मरीजों का इलाज सदियों पुराने नुस्खे से कर रहे हैं. वे बीपी और शुगर समेत पाचन संबंधी बीमारियों के मरीजों का समय समय पर खून निकाल रहे हैं. खून में ज्यादा आयरन वाले मरीजों पर भी यह प्रयोग किया जा रहा है.

नतीजे चौंका रहे हैं. रिसर्चरों ने मरीजों के शरीर से दो बोतल खून निकाला. फिर उनकी पुरानी और नई मेडिकल रिपोर्ट की तुलना की गई. रिसर्च के प्रमुख आंद्रेआस मिखालसेन कहते हैं, चार से छह हफ्तों के भीतर इस प्रयोग को करने के बाद हमें "ब्लड प्रेशर में अहम कमी दिखी." खून भी पुराने तरीके से ही निकाला गया. त्वचा के ऊपर गर्म कप रख दिया गया और पास की नस से खून निकाला गया.

पुराने नुस्खे से प्रेरणा

जर्मनी में हो रहा यह शोध के हजारों साल पुराने इलाज का नया रूप है. चिकित्सा इतिहासकार लिंडसे फिट्जहैरिस के मुताबिक यह नुस्खा सैकड़ों नहीं बल्कि हजारों साल पुराना है. इसका इस्तेमाल पुरातन रोमन सभ्यता में भी किया जाता था.

ब्रिटेन के वेलकम ट्रस्ट की इतिहासकार लिंडसे फिट्जहैरिस कहती हैं, "दूसरी शताब्दी में रोमन फिजिशियन गालेन को लगा कि खून भोजन से ही बनता है. हम जब खाना खाते हैं तो भोजन पेट में पचता है और फिर यकृत में जाता है, जहां यह खून में बदलता है." गालेन को लगता था कि अगर जरूरत से ज्यादा खून निकाल दिया जाए तो शरीर 'संयमित और संतुलित' रहेगा.

खतरा भी कम नहीं

आधुनिक चिकित्सा समुदाय भले ही गालेन के यूनानी इलाज को खारिज करता हो लेकिन लिंडसे फिट्जहैरिस के मुताबिक रोमन फिजिशियन का सिद्धांत गलत नहीं है. हां, इसमें जोखिम काफी है. खून निकालने की प्रक्रिया में बहुत ज्यादा साफ सफाई की जरूरत पड़ती है. कितना खून निकाला जाए, यह तय करना भी बहुत अहम है. ज्यादा खून निकल जाए तो रोगी की हालत और बिगड़ जाएगी. उपकरणों की साफ सफाई से कोई समझौता नहीं किया जा सकता.

इतिहास में ऐसे उदाहरण मिले हैं, जब साफ-सफाई के अभाव में गालेन के तरीके खतरनाक साबित हुए. लिंडसे कहती हैं, "ज्यादातर समय खून निकालने से बड़ी समस्या पैदा हुई. रोगी ठीक होने के बजाए ज्यादा बीमार हुए." सदियों पहले ऐसा करते वक्त अक्सर चिकित्सक ज्यादा गहरा चीरा लगा देते थे, जिसकी वजह से बहुत ज्यादा खून बह जाया करता था.

इलाज की लंबी प्रक्रिया

इतिहास की किताबों में ऐसी भी कहानियां हैं जब कई घंटों तक लगातार रोगी के शरीर से खून निकाला गया. कई मरीजों की मौत हो गई. अमेरिका के पहले राष्ट्रपति जॉर्ज वॉशिंगटन की मौत भी बहुत ज्यादा खून निकालने की वजह से हुई.

आधुनिक चिकित्सा विज्ञान साफ सफाई पर बहुत जोर देता है, लेकिन डॉक्टर अब भी इलाज के लिए खून निकालने से बचते हैं. बर्लिन के रिसर्चरों की उम्मीद है कि उनके प्रयोग से चिकित्सा विज्ञान इस तरीके को बेहतर ढंग से समझ सकेगा और खास किस्म के मरीजों का इलाज किया जा सकेगा.

रिपोर्ट: सोनिया अंगेलिका डिएन/ओएसजे

संपादन: महेश झा

DW.COM

WWW-Links