खाली एटीएम मशीनें, सरकार ने कहा बाजार में पर्याप्त नकदी | दुनिया | DW | 17.04.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

खाली एटीएम मशीनें, सरकार ने कहा बाजार में पर्याप्त नकदी

भारत के कई शहरों में मुद्रा की कमी के कारण एटीएम मशीनें खाली हैं. अधिकारियों ने मुद्रा की कमी के आरोपों का खंडन किया है और कहा है कि देश में पर्याप्त मात्रा में मुद्रा बाजार में है.

बीते कुछ हफ्तों से आंध्र प्रदेश, तेलंगाना व मध्य प्रदेश में मुद्रा की कमी की खबरें आ रही हैं. महाराष्ट्र, गुजरात व बिहार के हिस्सों से भी सोमवार को मुद्रा की कमी की शिकायतें मिली थीं. बिहार की राजधानी पटना सहित राज्य के अन्य हिस्सों में भी अधिकांश एटीएम में नकदी नहीं होने के कारण लोग परेशान हैं. लोगों का कहना है कि जिस एटीएम में पैसा है, वहां लंबी कतारें लगी हुई हैं.

अधिकारियों ने बाजार में मुद्रा न होने के आरोपों का खंडन किया है लेकिन एक बैंक के प्रबंधक ने मंगलवार को बताया कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से मांग के मुताबिक कैश की आपूर्ति नहीं की जा रही है, जिस कारण ऐसी समस्या आई है. केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मंगलवार को कहा कि सरकार ने स्थिति की समीक्षा की है और पर्याप्त मुद्रा से अधिक नकदी सर्कुलेशन में है. उन्होंने कहा है कि अस्थाई कमी को फौरन दूर करने की कोशिश की जा रही है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वीडन, ब्रिटेन और जर्मनी के दौरे पर निकले हैं, उधर नकदी की कमी के मुद्दे पर राजनीति भी शुरू हो गई है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और कहा कि भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी व मेहुल चोकसी को 'अच्छे दिन' मुहैया कराकर उन्होंने देश की बैंकिंग प्रणाली को बर्बाद कर दिया है. इस साल के आरंभ में सरकारी पंजाब नेशनल बैंक में 120 अरब रुपये का घोटाला सामने आया था.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि यह स्थिति उन्हें नोटबंदी के दिनों की याद दिला रही है. उन्होंने पूछा है कि क्या देश में 'वित्तीय आपातकाल' चल रहा है? बनर्जी ने ट्वीट किया, "कई राज्यों में एटीएम मशीनों में नकदी नहीं होने की रिपोर्ट देख रही हूं. बड़े नोट गायब हैं. यह नोटबंदी के दिनों की याद दिला रहा है. क्या देश में वित्तीय आपातकाल चल रहा है? नकदी की कमी, नकदरहित एटीएम मशीनें."

एमजे/आईबी (डीपीए, आईएएनएस)