1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

खदीरा को रियाल मैड्रिड ने खरीदा

वर्ल्ड कप में सुपर स्टार की तरह उभरे जर्मनी के मिड फील्डर सामी खदीरा को दिग्गज क्लब रियॉल मैड्रिड ने खरीदा. रियाल मैड्रिड ने उन्हें एक करोड़ 57 लाख डॉलर में खरीदा. बार्सिलोना और मेसी से टक्कर लेंगे खदीरा.

default

छह नंबर की जर्सी, लंबे बाल और सिर पर लगा हेयरबैंड. इस अंदाज में खेलने वाले सामी खदीरा अब स्पेनिश प्रीमियर लीग की दिग्गज टीम रियाल मैड्रिड के लिए खेलते नजर आएंगे. नामी गिरामी कोच जोसे मरिन्हियो की नजर खदीरा पर वर्ल्ड कप के दौरान ही पड़ गई थी. मरिन्हियो लगातार खदीरा को खरीदने की जुगत लगा रहे थे. शुक्रवार को बात पक्की हो ही गई.

मरिन्हियो रियॉल मैड्रिड के नए कोच हैं. उन्होंने खदीरा को एक करोड़ 57 लाख डॉलर में जर्मन फुटबॉल लीग की टीम स्टुटगार्ट से लिया. जर्मनी को इस साल वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल तक पहुंचाने में 23 साल के खदीरा की भूमिका अहम रही. उन्होंने श्वानस्टाइगर और ओत्जिल के साथ मिलकर गोल दागने के बेहतरीन मौके बनाए. यही वजह थी कि जर्मनी ने वर्ल्ड कप में सबसे ज्यादा 16 गोल ठोंके.

Bildkombo Sami Khedira Logo Real Madrid

रोनाल्डो के साथ खेलेंग खदीरा

खदीरा की मां जर्मन हैं जबकि उनके पिता ट्यूनिशिया के हैं. खदीरा को पहले वर्ल्ड कप के लिए चुनी गई जर्मन टीम में जगह नहीं मिली थी. लेकिन ऐन वक्त पर कप्तान माइकल बलाक के घायल होने से उन्हें दक्षिण अफ्रीका का टिकट मिला. स्टुटगार्ट के खिलाड़ी कहते हैं कि प्रभावशाली खदीरा के लिए यह मौका काफी था. स्टुटगार्ट के स्पोर्टिंग डायरेक्टर फ्रेड बोबिक का कहना है, ''खदीरा जैसे खिलाड़ी के जाने से कोई भी दुखी होगा. वह एक ऐसे खिलाड़ी हैं जो खेल को समझते हैं और आसानी से अपनी पहचान बना लेते हैं. बहरहाल हमने सामी खदीरा के सपनों को साकार करने में मदद की. वह रियाल जाना चाहते थे और हमने उन्हें बधाइयों के साथ भेजा.''

रियाल मैड्रिड में अब खदीरा और कोच मरिन्हियो के सामने नई चुनौतियां है. स्पेनिश प्रीमियर लीग में टीम का सामना दिग्गज टीम बार्सिलोना से होना तय है. रियाल पिछले दो सत्रों में कोई चैंपियनशिप टाइटल नहीं जीत सका है. बीते साल कट्टर प्रतिद्वंदी बार्सिलोना ने उसे मात दे दी थी. तब रियाल मैड्रिड के काका और रोनाल्डो जैसे सितारे मेसी के सामने फीके साबित हुए.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन: एस गौड़