1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

खटमलों को खत्म करने का मिलेगा नुस्खा

वैज्ञानिकों ने फिर-फिर पनप उठने वाले खटमलों का एक ऐसा आनुवांशिक नक्शा तैयार किया ​है जो इनकी रोकथाम में कारगर हो सकता है.

`आदमी के खून से अपनी प्यास बुझाने, रात के अंधियारे में, वे अपनी खुफिया जगहों से बाहर निकलते हैं..,´ ये पढ़कर क्या आपके जेहन में वैंपायर्स का खयाल आ रहा है? मगर नहीं! हम यहां खटमलों की बात कर रहे हैं. दुनिया भर के कई इलाकों से पूरी तरह खत्म कर दिए जाने के बाद भी पिछले दो दशकों में यह छोटा सा जीव दुबारा पनप रहा है. लेकिन पिछले दिनों वैज्ञानिक खटमलों का एक ऐसा समग्र आनुवांशिक नक्शा सामने लेकर आए हैं, जिसके जरिए इस प​र​जीवी को खत्म करने के प्रयासों को काफी मदद ​मिल सकती है.

न्यूयॉर्क के अमेरिकन म्यूजियम ऑफ नेचुरल हिस्ट्री के सैक्लर इंस्टीट्यूट फॉर कंपेरेटिव जीनोमिक्स के निदेशक जार्ज एमेटो कहते हैं, ''इस कीड़े की रोकथाम पर काम कर रहे शोधार्थियों के लिए ये नक्शा बेहद महत्वपूर्ण है.'' वहीं अमेरिकन म्यूजियम ऑफ नेचुरल हिस्ट्री के कीटविज्ञानी लुइस सॉर्किन कहते हैं, ''दुनिया भर के सभी महत्वपूर्ण शहरों में खटमल तेजी से फैल रहे हैं और इनमें कीटनाशकों के खिलाफ तेजी से प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती जा रही है. इसके चलते इनकी रोकथाम कर पाना मुश्किल हो गया है.''

वैज्ञानिकों ने पाया है कि ​कीटनाशकों के खिलाफ खटमलों की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने की वजह ​जीन्स हैं. ये ऐसे जीन्स हैं जो किसी खटमल या कीड़े में संभोग के दौरान होने वाले दर्द के प्रभाव को कम करते हैं. इसके अलावा रक्त का थक्का बनने से रोकने वाले वे जीन्स भी इसमें मददगार हैं जो खटमलों के लिए खून को, पोषक तत्व और पानी का बड़ा स्रोत बना देते हैं.

इन आनुवांशिक लक्षणों की वजह से भविष्य के कीटनाशक प्रभावहीन साबित हो सकते हैं. जीनोम ऐसे कई जीन्स को प्रश्रय देता है जो कि जीवाणुओं में पैदा होते हैं. इसमें वो जीन्स भी शामिल है जो खटमलों को विटामिन ​बी पचाने में मदद करते हैं. इससे पता चलता है कि जीवाणुओं के ​लिए इस्तेमाल किए जाने वाले एंटीबायोटिक्स खटमलों के लिए फायदेमंद होते हैं. इस जानकारी का इस्तेमाल इन कीटों को नियंत्रित करने के लिए किया जा सकता है.

प्रजनन के दौरान नर खटमल, अपने दराती के आकार के जननांग को, मादा खटमल के पेट में बने V आकार में तेजी से डालता है. मादा खटमल में ऐसा जीन्स होता है जो प्रोटीन को नियंत्रित करता है. उसकी मदद से वह अपने शरीर के उस हिस्से को इस रूखे सेक्स के लिए मजबूत और बेहतर बना लेती है. वेल कॉर्नेल चिकित्सा आनुवंशिकी विशेषज्ञ क्रिस्टोफर मेसन कहते हैं कि वयस्क खटमल मोटे तौर पर एक चौथाई इंच यानि 5 ​मिली मीटर का होता है और इसका भूरा रंग लाल रंगत ​लिए होता है. इसके काटने पर अकसर बीमारियां नहीं होती हैं लेकिन कुछ लोगों को इससे बहुत तेज खुजली होती है.

यूनिवर्सिटी ऑफ सिंसिनेटी की कीटविज्ञानी जोशुआ बेनोआइट बताते हैं, ''पूरे घर में खटमल कई किस्म की जगहों पर छुप सकते हैं. सामान्यतया ये सोफे में या बिस्तर के अंदर या फर्नीचर के फ्रेम में छिप जाते हैं. ये इलेक्ट्रिक सॉकेट, ड्रॉअर्स या दीवार और फर्श के कोनों पर ​भी पाए गए हैं.''

बीते हजारों सालों में अंटार्कटिका के अलावा हर एक महाद्वीप में खटमल लोगों को काटते आए हैं. दूसरे विश्वयुद्ध के बाद से घरों में कीटनाशकों के भारी प्रयोग होने के चलते दुनिया भर के कई हिस्सों से खटमलों का खात्मा कर दिया गया था. लेकिन खटमल, कीटनाशकों के खिलाफ अपनी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर, गर्म घरों में या फिर यात्रियों के सामान के साथ अंतराष्ट्रीय यात्रा करते हुए, फिर से उन जगहों पर लौट आए हैं.

आरजे/एमजे (रॉयटर्स)

DW.COM