1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

क्वीन एलिजाबेथ कॉमनवेल्थ गेम्स में नहीं आएंगी

ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ दिल्ली में होने वाले कॉमनवेल्थ गेम्स समारोह में शामिल नहीं होंगी. 44 सालों में पहली बार होगा कि महारानी कॉमनवेल्थ गेम्स से दूर रहेंगी. अब प्रिंस चार्ल्स करेंगे शाही परिवार की नुमाइंदगी.

default

ब्रिटेन के डेली मेल अखबार में छपी रिपोर्ट के मुताबिक प्रिंस चार्ल्स उदघाटन समारोह में शामिल होने के लिए भारत आएंगे. वैसे महारानी एलिजाबेथ की ओर से खिलाड़ियों के लिए संदेश भेजे जाने की संभावना है जिसे समारोह के दौरान पढ़ा जाएगा. बकिंघम पैलेस के प्रवक्ता ने बताया कि महारानी एलिजाबेथ का कार्यक्रम बेहद व्यस्त है जिसके चलते अक्टूबर में वह दिल्ली की यात्रा कर पाने में असमर्थ हैं.

बकिंघम पैलेस प्रवक्ता ने कहा, "यह कहना सही है कि महारानी एलिजाबेध इस साल कॉमनवेल्थ गेम्स समारोह से दूर रहेंगी. उस दौरान वह बेहद व्यस्त हैं, उन्हें विदेश यात्राओं पर भी जाना है जिसके चलते वह उपस्थित नहीं हो पाएंगी. ब्रिटेन के हाई कमीशन ने प्रसन्नता जाहिर की है कि महारानी के स्थान पर प्रिंस चार्ल्स 3 अक्टूबर को होने वाले उदघाटन समारोह में महारानी का प्रतिनिधित्व करेंगे."

2006 में मेलबर्न शहर में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में महारानी एलिजाबेथ ने अपने उदघाटन भाषण में राष्ट्रमंडल खेलों को महान खेल उत्सव बताया. उन्होंने कहा था कि कॉमनवेल्थ गेम्स एक अनूठे संगठन और लोगों के बीच साझेदारी का अमूल्य उदाहरण है.

कॉमनवेल्थ गेम्स ओलंपिक और एशियाई खेलों की तर्ज पर होने वाला खेल समारोह है लेकिन उसमें हिस्सा लेने वाले खिलाड़ी राष्ट्रमंडल देशों से आते हैं. यह पहली बार है जब कॉमनवेल्थ गेम्स भारत में होने जा रहे हैं जबकि किसी एशियाई देश को दूसरी बार यह जिम्मेदारी सौंपी गई है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संबंधित सामग्री