1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

क्लिंटन ने की दक्षिण कोरिया की तरफदारी

चीन में जटिल आर्थिक बातचीत के बाद अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल पहुंची हैं. यहां उन्हें एक विस्फोटक तनाव से निपटना है, जो दक्षिण कोरियाई जहाज़ के डुबाए जाने के बाद पैदा हुआ है.

default

धमकियां देना छोड़े उत्तर कोरियाः क्लिंटन

सियोल पहुंचने के बाद विदेश मंत्री क्लिंटन ने उत्तर कोरिया को चेतावनी देते हुए कहा कि वह धमकी और उकसावे की अपनी नीति ख़त्म करे. साथ ही उन्होंने कहा कि विश्व को दक्षिण कोरियाई युद्धक जहाज़ के डुबाए जाने की घटना पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करनी पड़ेगी.

पिछले हफ़्ते एक बहुराष्ट्रीय जांच दल ने कहा था कि 26 मार्च को एक उत्तर कोरियाई पनडुब्बी से छोड़े गए टॉरपीडो के हमले से दक्षिण कोरियाई जहाज़ डूबा था. इस घटना में 46 लोगों की मौत हो गई थी.

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति ली म्युंग बाक से मिलने के बाद हिलेरी क्लिंटन ने कहा कि इस हमले का मज़बूत, लेकिन संयत जवाब देना पड़ेगा. उन्होंने इस सिलसिले में सोमवार को राष्ट्रपति ली के बयान की सराहना करते हुए कहा कि यह मज़बूत और भव्य था. ली ने उत्तर कोरिया के ख़िलाफ़ उठाए जाने वाले क़दमों की घोषणा की थी, जिसमें लगभग सभी व्यापारिक संबंधों को ख़त्म करना शामिल था. क्लिंटन ने दक्षिण कोरिया को आश्वस्त करते हुए कहा कि इस मुश्किल घड़ी में अमेरिका उसके साथ है और बना रहेगा. उन्होंने कहा कि भविष्य में ऐसे हमलों को रोकने के लिए अमेरिका इस क्षेत्र में अपनी प्रतिरक्षा क्षमता बढ़ाने के बारे में सोच रहा है.

इस बीच दक्षिण कोरियाई सेना का टोही विभाग उत्तर कोरिया की उन चार पनडुब्बियों का पता लगाने की कोशिश कर रहा है, जो इस हफ़्ते के आरंभ में अपने अड्डे से रवाना होने के बाद अब रडार की पकड़ में नहीं आ रहे हैं. समाचार एजेंसी योनहाप ने सैनिक सूत्रों का हवाला देते हुए कहा है कि सांग-ओर प्रकार की चार 300 टन भारी पनडुब्बियां उत्तर कोरिया के चाहो नौसैनिक अड्डे से रवाना हुई थीं. पिछले दो दिनों से वे रडार की पकड़ से बाहर हैं. एक साथ इतनी पनडुब्बियों का ग़ायब होना एक अनोखी बात है. दक्षिण कोरिया के उप रक्षा मंत्री चांग क्वांग इल ने कहा है कि ऐसा लगता है कि ये पनडुब्बियां नियमित सैनिक अभ्यास पर निकली थीं. लेकिन दक्षिण कोरियाई सेना स्थिति पर नज़र रखे हुई है.

इस बीच राष्ट्रीय एकीकरण के लिए दक्षिण कोरियाई मंत्रालय के प्रवक्ता चुन हाए सुंग ने कहा है कि उत्तर कोरिया की ओर से दी जा रही धमकियों से कड़ाई से निपटा जाएगा और 24 मई को घोषित सज़ा के क़दमों को अमल में लाया जाएगा.

रिपोर्ट: एजेंसियां/उभ

संपादन: ए कुमार

संबंधित सामग्री