1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

क्रिकेट विश्वकप के दौरान भिखारी मुक्त ढाका

कॉमनवेल्थ के खेलों के दौरान दिल्ली के अनुभवों को अब विश्वकप के खेलों में भी परखा जाएगा. ढाका में खेलों के आयोजन के दौरान सड़कों से भिखारियों को हटाने के बारे में सोचा जा रहा है.

default

भिखारी नहीं दिखेंगे.

विदेश से आने वाले मेहमानों के सामने मेजबान शहर की सजी-संवरी तस्वीर पेश करने के लिए दिल्ली में भिखारियों को विशेष शिविरों में बंद रखा गया था या उन्हें शहर के बाहर खदेड़ दिया गया था. अब यही नुस्खा ढाका में भी अपनाया जा रहा है. विश्वकप के दौरान वहां शहर की सड़कों से भिखारियों और खोमचे वालों को हटा लिया जाएगा.

बांगलादेश की गृहमंत्री सहारा खातून ने आज बुधवार को कहा कि उनका मंत्रालय पुलिस विभाग और नगर के अधिकारियों को हिदायत देगा कि वे विश्वकप सुरक्षा समिति द्वारा इस सिलसिले में दी गई सलाहों को मान कर चलें. उन्होंने कहा कि यह काफी संभव है कि उस दौर के लिए शहर के भिखारियों को समाज कल्याण मंत्रालय के शिविरों में भेज दिया जाए.

गृहमंत्री खातून ने साथ ही प्रस्ताव दिया है कि ढाका में 17 फरवरी को सार्वजनिक छुट्टी का दिन घोषत कया जाए. उस दिन बांगलादेश की राजधानी में विश्वकप का उद्घाटन समारोह होगा. साथ ही वे ढाका में होने वाले अन्य मैचों के दिन भी छुट्टी की घोषणा के बारे में सोच रहे हैं. भारत और श्रीलंका के साथ बांगलादेश भी विश्वकप के मेजबान देशों में शामिल है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/उ भट्टाचार्य

संपादन: एम गोपालकृष्णन

DW.COM

WWW-Links