1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

क्या मौजूदा ट्रकों को चुनौती दे पाएगा ई ट्रक

डीजल ट्रक को रोड का राजा कहा जाता है. क्या 30 मिनट की चार्जिंग से 600 किलोमीटर चलने वाला टेस्ला का इलेक्ट्रिक ट्रक नया रोड किंग साबित होगा?

अमेरिकी कंपनी टेस्ला के सीईओ ईलॉन मस्क ने कैलिफोर्निया में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बड़ा खुलासा किया. मस्क ने दावा किया कि टेस्ला ने एक बार में 804 किलोमीटर की दूरी तय करने वाला इलेक्ट्रिक ट्रक बना लिया है. ट्रक की ढुलाई क्षमता 36.28 टन है. अमेरिका में सेमी ट्रकों के लिए इतना ही लोड तय किया गया है.

बिजली से चलने वाला ट्रक, डीजल ट्रक से काफी ज्यादा महंगा है. लेकिन गुरुवार को टेस्ला ने दावा किया कि प्रति किलोमीटर ढुलाई और रखरखाव के लिहाज से उसका ट्रक ज्यादा किफायती साबित होगा. ट्रक में टेस्ला ऑटोपायलट सिस्टम होगा. सिस्टम की मदद से ट्रक तय की गई स्पीड पर चलता रहेगा. ज्यादा ट्रैफिक होने पर वाहन खुद ही रफ्तार कम करेगा. ऑटोपायलट ट्रक को निर्धारित लेन पर भी चलाता रहेगा.

मस्क ने कहा कि टेस्ला दुनिया भर में सौर ऊर्जा वाले सुपरफास्ट चार्जिंग स्टेशन "मेगाचार्जर्स" का नेटवर्क बनाएगी. ऐसे चार्जिंग स्टेशनों पर 30 मिनट की चार्जिंग के बाद ट्रक 600 किलोमीटर की यात्रा कर सकेगा. कंपनी ने वादा किया है कि ट्रक 2019 से बाजार में आ जाएगा. अमेरिका में इच्छुक ग्राहकों को 5,000 डॉलर जमा कराकर ऑर्डर देना होगा.

USA Vorstellung Elektro-LKW Tesla Semi (Reuters/A. Sage)

टेस्ला का ई ट्रक

दुनिया भर के ट्रक बाजार पर अभी डीजल इंजन का नियंत्रण है. डीजल इंजन जांचा परखा है. साथ ही डीजल हर जगह आसानी से उपलब्ध भी हो जाता है. मस्क इस वर्चस्व को तोड़ना चाहते हैं. अमेरिका में 2016 में 4,100 ई ट्रक बिके. नैविगेंट रिसर्च के मुताबिक 2026 तक यह संख्या 70,000 होगी. अमेरिका में फिलहाल बिजली से चलने वाले पिक अप ट्रकों की मांग बढ़ रही है. इन्हें रात भर चार्ज किया जाता है और 160 किलोमीटर की रेंज कवर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है.वीडियो: ट्रक ड्राइवरों को सलाम

परिवहन पर शोध करने वाली संस्थाओं के मुताबिक डीजल पर सख्ती और बेहतर चार्जिंग से बिजली वाले वाहनों को फायदा मिलेगा. अमेरिका, यूरोप और चीन में आने वाले समय में गाड़ियों के उत्सर्जन के मानक कड़े होने तय हैं.

लंबी दूरी के लिए ई ट्रक बनाने का दांव टेस्ला ने चला है. इस राह में कई चुनौतियां भी हैं. कंपनी को दुनिया भर के हाईवेज पर सुपरफास्ट चार्जिंग का नेटवर्क बनाना होगा. अगर चार्जिंग में दो घंटे का समय लगा तो माल डिलिवर करने में देरी होगी. साथ ही कोई खराबी आने पर रिपेयर सुविधा भी जल्द मुहैया करानी होगी. केली ब्लू बुक की ट्रांसपोर्ट विशेषज्ञ रेबेका लिंडलैंड बहुत ज्यादा उत्साहित नहीं हैं. वह कहती हैं, ट्रांसपोर्टर "कारोबारी लोग होते हैं, उनके सामने यह साबित करना होगा कि यह ट्रक मौजूदा तकनीक से कहीं ज्यादा बेहतर है."

USA Elon Musk Vorstellung Tesla Roadster 2 (Reuters/Tesla)

रोडस्टर के साथ ईलॉन मस्क

मस्क ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक और बड़ी खबर दी. उन्होंने टेस्ला की पहली स्पोर्ट्स कार रोडस्टर लॉन्च करने की घोषणा की. 402 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार भर सकने वाली रोडस्टर 2020 में बाजार में आएगी. 2,00,000 डॉलर की रोडस्टर एक चार्जिंग में 1,000 किलोमीटर की दूरी तय करेगी.

(बिना ड्राइवर की मर्सिडीज बस)

ओएसजे/एमजे (एपी)

DW.COM