1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

क्या आईपीएल की टीमें गुलाम हैं: माल्या

आईपीएल की दो टीमों को बाहर करने के बीसीसीआई के फैसले पर विजय माल्या ने गहरी नाराजगी जाहिर की है और कहा कि वे टीमें कोई गुलाम नहीं थी. बीसीसीआई ने आईपीएल की किंग्स इलेवन और राजस्थान रॉयल्स को बाहर किया.

default

आईपीएल मैचों में खूब झूमीं शिल्पा

दो टीमों को आईपीएल-4 से बाहर करने के बोर्ड के फैसले पर कड़ी प्रतिक्रिया हुई है. राजस्थान रॉयल्स के मालिक और शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा ने कहा है कि वह कानूनी कार्रवाई का विकल्प खोज रहे हैं. कुंद्रा ने कहा, "मुझे यह नहीं पता कि हमारा करार क्यों खत्म किया गया. मैं कानूनी विकल्प तलाश कर रहा हूं. लेकिन मैं यह नहीं जानता कि अगर इस तरह से टीमों के साथ व्यवहार किया जाता है तो क्या आईपीएल का चौथा सीजन हो पाएगा."

उधर आईपीएल टीम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के मालिक विजय माल्या भी इस फैसले से सख्त नाराज हैं. वह आईपीएल के पूर्व कमीश्नर ललित मोदी के कट्टर समर्थक रहे हैं. उन्होंने इस फैसले पर ट्विटर के जरिए तुरंत अपनी नाराजगी जताई. उन्होंने लिखा, "मुझे संदेह है कि आईपीएल की हिस्सेदार टीमें गंभीर हैं जिनका निवेश और जिनकी भागीदारी का आदर किया जाता है या फिर वे सिर्फ गुलाम हैं जो आते हैं और खेलते हैं."

यूबी ग्रुप के मालिक विजय माल्या ने शिल्पा शेट्टी से भी सहानुभूति जताई. उन्होंने कहा, "यह बेहद हास्यास्पद है और बीसीसीआई के आईपीएल फ्रैंचाइजी के प्रति रुख पर सवाल खड़े करता है."

आईपीएल के पूर्व कमिश्नर ने भी इस फैसले को खराब बताते हुए कहा कि बीसीसीआई आईपीएल को बर्बाद करने पर तुला हुआ है. अपने ट्विटर अकाउंट पर ललित मोदी ने लिखा, "आईपीएल को उसकी टीमें ही बनाती हैं. बीसीसीआई ने जो आज किया है उससे न सिर्फ आईपीएल बल्कि बीसीसीआई का भी नुकसान होगा. वह आईपीएल नाम की उस चीज को बर्बाद करने पर तुले हुए हैं जिस पर हम भारतीयों को गर्व है."

शिल्पा शेट्टी और उनके पति राज कुंद्रा आईपीएल की टीम राजस्थान रॉयल्स के मालिक हैं. शिल्पा को इस फैसले से काफी ठेस पहुंची. उन्होंने कहा, "यह उन सबके लिए है जो फैसले पर मेरी प्रतिक्रिया जानना चाहते हैं. ईमानदारी से कहूं तो मैं इतनी हतप्रभ हूं कि मैं कोई टिप्पणी ही नहीं दे सकती. यह दुखी करने वाली बात है क्योंकि टीम हमारे लिए बहुत ज्यादा मायने रखती है. हमें अभी तक करार के खात्मे के पेपर नहीं मिले हैं. इसके बाद ही मैं कुछ कह सकती हूं. इस खात्मे का कारण क्या है, यह जानना बहुत जरूरी है."

राजस्थान रॉयल्स के कप्तान शेन वॉर्न भी इस फैसले से अवाक हैं. उन्होंने कहा, "यह राजस्थान रॉयल्स के लिए बड़ा झटका है. हमारी ही तरह फैन्स के लिए बड़ी शर्म की बात है." वॉर्न नए स्थानीय खिलाड़ियों के भविष्य को लेकर भी चिंतित दिखाई दिए. उन्होंने कहा, "रॉयल्स की टीम ने भारत के कई नए खिलाड़ियों को मौका दिया और कप्तान की हैसियत से मैंने उनका समर्थन भी किया. हमारे कोचिंग स्टाफ ने भी उनका पूरा साथ दिया. उन युवा खिलाड़ियों का क्या? मैं उम्मीद करता हूं कि बीसीसीआई होश में आ जाएगा."

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः वी कुमार

DW.COM

WWW-Links