1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

क्या अलगाववादी चाहते हैं कश्मीरियों की मौत

भारत के गृह मंत्रालय ने कश्मीर के अलगाववादी नेताओं की बातचीत ट्रेस की है और इससे पता लगता है कि वे खुद अपने लोगों की मौत चाहते हैं ताकि मामला गंभीर बना रहे. प्रदर्शन के दौरान वे 15 लोगों की मौत की बात कर रहे हैं.

default

इस बातचीत में एक प्रमुख अलगाववादी धड़े के दो सदस्य आपस में बात कर रहे हैं और कह रहे हैं कि बुधवार को श्रीनगर के पास जो प्रदर्शन हो रहे हैं, उनमें कम से कम 15 लोगों की मौत होनी चाहिए.

श्रीनगर के बाहरी इलाके बडगाम में बुधवार शाम एक बड़ा प्रदर्शन हुआ. हुर्रियत नेता सैयद अली शाह गिलानी के दो सदस्यों ने इसी दौरान बातचीत की कि किस तरह इस प्रदर्शन की जगह पर हिंसा फैला कर और लोगों की मौत से फायदा उठाया जा सकता है. इनकी बातचीत के ट्रांसक्रिप्ट भारत के गृह मंत्रालय के पास हैं.

Radikaler Politiker aus Jammu und Kashmir Syed Ali Shah Gilani Geelani

सैयद अली शाह गिलानी

इस ट्रांसक्रिप्ट के मुताबिक एक शख्स गुलाम अहमद डार दूसरे शख्स शब्बीर अहमद वानी से कह रहा है कि 20,000 लोगों की भीड़ मागाम से निकली है और बडगाम की तरफ बढ़ी है. बातचीत के दौरान वानी ने कहा, "तुम लोग घर पर बैठ कर पैसे ले रहे हो और कुछ नहीं कर रहे हो."

डार ने इसके जवाब में कहा, "कभी कभी भीड़ को संभाल पाना मुश्किल हो जाता है. इसके बाद भीड़ को संभालना मुश्किल होता है." बाद में डार ने कहा, "आज कम से कम 15 लोग शहीद होने चाहिएं." इसके फौरन बाद बातचीत खत्म हो गई.

हालांकि इस प्रदर्शन के दौरान किसी तरह की अप्रिय घटना नहीं हुई. पुलिस ने मामूल बल प्रयोग के साथ भीड़ को तितर बितर कर दिया.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए जमाल

संपादनः एम गोपालकृष्णन

संबंधित सामग्री