1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

कौन है विकीलीक्स को दस्तावेज देने वाला

पिछले 188 दिन से अमेरिकी सैनिक ब्रैडली मैनिंग अमेरिका के वर्जीनिया में हिरासत में हैं. अमेरिकी अधिकारी उन्हीं पर विकीलीक्स को दस्तावेज देने का इल्जाम लगाते हैं. लेकिन कौन हैं मैनिंग और उन्होंने कैसे किया यह कारनामा?

default

ब्रैडली मैनिंग

ब्रैडली मैनिंग की उम्र सिर्फ 23 साल है. सेना की हरी वर्दी में मुस्कुराता हुआ यह नौजवान अपने बाकी साथियों से कुछ अलग तो है. वह सेना में खुफिया जानकारियों के विश्लेषण का काम करते थे, लेकिन अब उन्हें अमेरिका की इस वक्त की सबसे बड़ी परेशानी का सबब माना जा रहा है. अमेरिकी अफसरों को लगता है कि मैनिंग ने ही विकीलीक्स को सारे दस्तावेज दिए हैं.

वेबसाइट विकीलीक्स ने सोमवार को दो लाख 50 हजार गोपनीय दस्तावेज जारी किए जिनसे अमेरिका की दुनियाभर में किरकिरी हो रही है. अमेरिका की तरफ से इस वक्त दो ही बयान बार बार आ रहे हैं. एक तो यह कि विकीलीक्स ने बहुत गलत काम किया है. और दूसरे यह कि जिसने ये दस्तावेज विकीलीक्स को दिए हैं, उसे बख्शा नहीं जाएगा.

इस वक्त अमेरिकी अधिकारी खुलकर मैनिंग के बारे में बात नहीं कर रहे हैं क्योंकि अमेरिकी इतिहास के इस सबसे बड़े दस्तावेजी खुलासे की जांच जारी है. लेकिन मैनिंग के बारे में कुछ बातें तो सामने आ ही गई हैं.

कहां है ब्रैडली मैनिंग

मैनिंग को इस वक्त वर्जीनिया के क्वान्टिको मरीन बेस में हिरासत में रखा गया है. उस पर जुलाई में एक खुफिया वीडियो बनाने का आरोप लगाया गया है. मैनिंग ने इराक में एक हेलीकॉप्टर हमले का वीडियो बना लिया था. इस हमले में समाचार एजेंसी रॉयटर्स के दो पत्रकारों समेत एक दर्जन से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी. इस वीडियो को विकीलीक्स ने इसी साल अप्रैल में रिलीज किया था.

मैनिंग पर अमेरिकी विदेश मंत्रालय के एक लाख 50 हजार से ज्यादा दस्तावेज डाउनलोड करने का भी आरोप है. साथ ही मैनिंग पर इल्जाम है कि जब वह इराक में दसवीं माउंटेन डिवीजन की दूसरी ब्रिगेड के साथ एक खुफिया ऑपरेशन पर काम कर रहे थे तब उन्होंने कई केबल संदेश लीक किए. हालांकि अमेरिकी अधिकारी यह नहीं बता रहे हैं कि क्या ये केबल संदेश वही हैं जो अब विकीलीक्स ने जारी किए हैं.

कैसे पकड़ा मैनिंग को

पूर्व हैकर एड्रियान लामो की मानें तो मैनिंग शेखी बघारने के चक्कर में पकड़ में आ गए. उन्होंने लामो के सामने अपने कारनामों की खूब शेखी बघारी. बाद में सेना ने उन्हें कुवैत में हिरासत में ले लिया.

कैसे किया मैनिंग ने यह कारनामा

मैनिंग ने इंटरनेट पर चैटिंग करते हुए लामो को बताया कि वह एक सीडी लेकर आते जिस पर लेडी गागा या कुछ और लिखा होता. फिर वह सीडी से म्यूजिक डिलीट कर देते और सीक्रेट इंटरनेट प्रोटोकॉल रूटर नेटवर्क (एसआईपीआरनेट) के जरिए उस पर डेटा डाउनलोड कर लेते. मैनिंग ने कहा कि वह जब वह डेटा डाउनलोड कर रहे होते तो लेडी गागा के गानों को गुनगुनाते रहते.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः महेश झा

DW.COM

WWW-Links