1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

कौन लगाए हैमिल्टन पर ब्रेक

फर्राटा रेस के नियमों में बदलाव से उम्मीद बंधी थी कि बोरियत खत्म होगी और नए विजेता दिखेंगे. लेकिन मर्सिडीज और लुइस हैमिल्टन ने इस साल के फॉर्मूला वन को एकतरफा बना दिया है. हैमिल्टन तो हैट ट्रिक भी लगा चुके हैं.

अब तक सीजन में चार रेस हो चुकी हैं और उनकी टीम सबसे आगे चल रही है. लगातार चार बार के चैंपियन जर्मनी के सेबास्टियन फेटल पिछड़ चुके हैं. तीन बार रेस जीतने के बाद भी हैमिल्टन पहले नंबर पर नहीं पहुंच पाए हैं और अगर इसे ही रोमांच मान लिया जाए, तो रोमांच बना हुआ है.

साल 2008 में पहले ही फॉर्मूला वन में चैंपियन बनने वाले ब्रिटेन के हैमिल्टन का जादू छह साल बाद दिख रहा है, जब वह अपने टीम पार्टनर जर्मनी के निको रोसबर्ग के साथ लगातार पोडियम पर कब्जा जमा रहे हैं. निको के पास अब 79 अंक हैं, जबकि हैमिल्टन 75 अंकों के साथ दूसरे नंबर पर हैं. फरारी के फर्नांडो अलोंसो तो अलबत्ता तीसरे नंबर पर हैं, लेकिन अंक हैं महज 41. सबसे बुरा हाल फेटल का है, जो 33 अंकों के साथ पांचवें स्थान पर ही आ पाए हैं.

रविवार को चीनी ग्रां प्री में तो हैमिल्टन जैसे हवा में कार चला रहे थे. पोल पोजीशन से रेस की शुरुआत करने के बाद उन्होंने पहले नंबर पर ही रेस खत्म की और तब अपने साथी दूसरे नंबर पर रहे निको रोसबर्ग से पूरे 18 सेकंड आगे थे.

लेकिन इस जीत के बावजूद हैमिल्टन के लिए उनके साथी रोसबर्ग ही सबसे बड़ी मुश्किल बन रहे हैं, जो अंकों के मामले में उनसे आगे चल रहे हैं. मेलबर्न में सीजन की पहली रेस जीतने वाले रोसबर्ग का कहना है, "मेरी योजना है कि मैं इस फासले को बनाए रखूं."

वैसे दो बार के विजेता फरारी ड्राइवर अलोंसो भी आने वाले रेसों में हैमिल्टन के लिए मुश्किल बन सकते हैं. अभी सीजन में 15 रेसें बाकी हैं और इतनी रेसों में बहुत कुछ उलटफेर हो सकता है.

एजेए/एमजे (एएफपी)