1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

कोलंबो में टीम इंडिया की इज्जत दांव पर

कोलंबो में भारत और श्रीलंका के बीच तीसरा और आखिरी टेस्ट आज से. टीम इंडिया रैंकिंग और सम्मान बचाने की खातिर उतरेगी. तूफानी गेंदबाज लसिथ मलिंगा की वापसी से श्रीलंका के हौसले बुलंद.

default

टीम इंडिया का श्रीलंका की धरती पर टेस्ट सीरीज जीतने का ख्वाब इस बार भी पूरा नहीं हुआ. कोलंबो में आज से शुरू हो रहे टेस्ट में नंबर वन टीम के सामने सम्मान बचाने की चुनौती है. अगर टीम इंडिया यह मैच हार गई तो श्रीलंका रैकिंग में उसे पीछे कर देगा. ड्रॉ में गद्दी डोलने लगेगी.

वैसे पिछले मैच में टीम ने शानदार बल्लेबाजी की थी, लेकिन टेस्ट जीतने के लिए विपक्षी टीम को आउट करना भी जरूरी होता है. यहीं पर भारतीय टीम मार खा रही है. अब तक भारतीय गेंदबाज एक बार भी श्रीलंका को ऑल आउट नहीं कर सके हैं. पहले मैच में टीम इंडिया श्रीलंका के सिर्फ आठ विकेट गिरा सकी. दूसरे मैच में तो चार बल्लेबाजों ने ही नाक में दम कर दिया और 642 रन ठोंक डाले.

जहीर खान की गैर मौजूदगी में मिथुन और ईशांत शर्मा असरहीन साबित हुए हैं. वहीं गेंदबाजी के दम पर श्रीलंका ने भारत को कस कर रखा हुआ है. तीसरे टेस्ट में मलिंगा की वापसी से संगकारा ब्रिग्रेड के हौसले फिर बुलंद हैं. टीम इंडिया के टॉप ऑर्डर को तबाह करने में उन्होंने बड़ी भूमिका निभाई है.

Indischer Cricketspieler Sachin Tendulkar

भारतीय टीम के सामने एक और संकट है. ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह का इस टेस्ट में खेलना तय नहीं है. सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर भी बाहर ही रहेंगे. माना जा रहा है कि आज तेज गेंदबाज मुनाफ पटेल को मौका दिया जा सकता है.

नजरें टॉस पर भी होंगी. दोनों मैचों में अब तक धोनी टॉस नहीं जीत सके हैं. यानी बड़ा स्कोर खड़ा कर दूसरी टीम को दबाव में लाने का मौका अब तक भारत को नहीं मिला है.

मैच का नतीजा भले ही कुछ हो, लेकिन खेल प्रेमियों की निगाहें आज मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर पर होंगी. सचिन आज मैदान पर उतरते ही दुनिया के सबसे ज्यादा टेस्ट मैच खेलने वाले खिलाड़ी बन जाएंगे. स्टीव वॉ को पीछे छोड़ते हुए वह आज 169 टेस्ट खेलेंगे. यानी इस आंकड़े के पांच दिन से गुणा करें तो 845 दिन होते हैं. मतलब, सचिन अब तक इतने टेस्ट खेल चुके हैं, जितने लगातार खेले जाएं तो सवा दो साल हर दिन खेलना पड़ेगा.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन: आभा एम