1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

कोमा से निकले शूमाखर

दुनिया के सबसे सफल फॉर्मूला वन रेसर मिषाएल शूमाखर लगभग छह महीने कोमा में रहने के बाद बाहर निकल आए हैं. उनकी अस्पताल से छुट्टी हो गई लेकिन बाद में दूसरे अस्पताल में दाखिल किया गया.

आल्प पहाड़ियों में स्की करते हुए 29 दिसंबर, 2013 को शूमाखर घायल हो गए थे और उन्हें ग्रेनोबेल के अस्पताल में दाखिल कराया गया था. उनकी मैनेजर जाबिने केम ने बताया, "मिषाएल को लंबे पुनर्वास के लिए अस्पताल से बाहर लाया गया है." अप्रैल में उनके परिवार ने अपील की थी कि उनकी निजता का सम्मान करते हुए उन्हें अकेले रहने दिया जाए. उस वक्त केम ने शूमाखर के बारे में कहा था, "बहुत छोटे समय के लिए वह कभी कभी होश में आते हैं. बेहतरी के बहुत छोटे संकेत मिले हैं."

ग्रेनोबेल अस्पताल की प्रवक्ता ब्रिगिटे पोलीकर ने बताया कि सोमवार की सुबह शूमाखर कुछ लोगों के साथ निकल गए. उन्होंने इससे ज्यादा जानकारी नहीं दी. केम ने एक बयान जारी किया, "शूमाखर का परिवार तमाम डॉक्टरों, नर्सों और थेरापिस्टों को शुक्रिया कहना चाहता है. वह उन लोगों को भी धन्यवाद देता है, जिन्होंने हादसे के फौरन बाद उन्हें सबसे पहले मदद दी थी." बयान में कहा गया, "परिवार सभी शुभचिंतकों को भी शुक्रिया कहता है, जिन्होंने मिषाएल को शुभकामनाएं भेजीं. हमें पक्का यकीन है कि इससे मदद मिली. आगे के लिए हम कहना चाहते हैं कि उनका पुनर्वास सार्वजनिक लोगों की नजर से दूर होगा."

सिर में जबरदस्त चोट के साथ 29 दिसंबर को 45 साल के शूमाखर को अस्पताल में दाखिल कराया गया. स्की करते हुए आल्प की पहाड़ियों में वह दुर्घटनाग्रस्त हो गए और उनका हेलमेट टूट गया. ग्रेनोबेल अस्पताल के डॉक्टरों ने उन्हें कोमा में डाल दिया, ताकि दिमाग पर जोर न पड़े और सिर को सूजने से रोका जा सके. उनका ऑपरेशन भी किया गया, लेकिन कई जगह जबरदस्त चोटें थीं.

Frankreich Grenoble Sabine Kehm Pressesprecherin Michael Schumacher 01.01.2014

मैनेजर जाबिने केम

हाल के दिनों में शूमाखर की स्थिति पर कम जानकारी दी गई. अप्रैल के बाद यह पहला मौका है, जब शूमाखर के बारे में कुछ सार्वजनिक तौर पर बताया गया है. सात बार फॉर्मूला वन रेस जीतने वाले जर्मनी के शूमाखर दुनिया के सबसे कामयाब रेसर माने जाते हैं.

फ्रांस के ग्रेनोबेले अस्पताल से छुट्टी के बाद उन्हें स्विट्जरलैंड के लुजाने यूनिवर्सिटी अस्पताल (सीएचयूवी) में भर्ती किया गया है. सीएचयूवी की प्रवक्ता डार्सी क्रिस्टेन ने बताया, "वह यहां हैं. वह आज सुबह यहां आए." हालांकि उन्होंने इससे ज्यादा जानकारी नहीं दी कि शूमाखर के साथ कौन है और उन्हें अस्पताल की कौन सी इकाई में रखा गया है.

एजेए/आईबी (डीपीए, एपी)

DW.COM