1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

कोबानी में जिहादी आगे बढ़े

आईएस के जिहादी सीरिया के सीमांत शहर कोबानी में कुर्द मिलिशिया के साथ सड़कों पर लड़ रहे हैं. अमेरिकी नेतृत्व में आईएस के ठिकानों पर हवाई हमले किए गए हैं. इस शहर पर कब्जा करना कट्टरपंथी संगठन आईएस की बड़ी जीत होगी.

कोबानी पर कब्जे की लड़ाई गंभीर चरण में प्रवेश कर गई है. आईएस के जिहादियों ने कुर्दों की सुरक्षा को भेदकर शहर के दक्षिण और पश्चिम में नए इलाकों पर कब्जा कर लिया है. कोबानी में चल रही गोलीबारी की आवाज सीमा के पार तुर्क हिस्से में सुनी जा रही है. कोबानी के केंद्र में अभी भी कुर्दों का झंडा लहरा रहा है. शहर के दक्षिण पश्चिम में आईएस के ठिकानों पर अमेरिका के नेतृत्व में नई बमबारी हुई है.

कोबानी को रणनैतिक इनाम समझा जा रहा है क्योंकि उस पर कब्जे से आईएस को सीरिया और इराक के बड़े इलाके में फैली अपनी इस्लामी खिलाफत के लिए तुर्की की सीमा पर बड़ा हिस्सा मिल जाएगा. कोबानी के एक कुर्द अधिकारी इद्रीस नहसान ने समाचार एजेंसी एएफपी को टेलिफोन पर बताया, "आईएस के जिहादी शहर पर कब्जा करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं." कुर्दों की जनसुरक्षा यूनिट उनका कड़ा प्रतिरोध कर रही हैं. नहसान ने कहा, "हमें अंतरराष्ट्रीय समुदाय की मदद चाहिए. या तो हम उन्हें खत्म करेंगे या वे हमें खत्म कर देंगे."

सोमवार को कोबानी में हुई लड़ाई में 34 जिहादी और 16 कुर्द लड़ाके मारे गए. सीरिया में मानवाधिकारों पर नजर रखने वाली ब्रिटेन स्थित संस्था के अनुसार जिहादियों ने एक निर्माणाधीन अस्पताल सहित कई इमारतों पर कब्जा कर लिया है. जिहादियों के शहर में घुसने और पूर्वी हिस्से में काला झंडा लहराने के बाद कुर्द लड़ाकों ने नागरिकों से शहर खाली कर देने को कहा है.

Kurden demonstrieren in NRW gegen Gewalt in Kobane

कुर्दों का प्रदर्शन

अंतिम दम तक लड़ाई

कुर्दों को भरोसा है कि शहर की जानकारी उनके हल्के हथियारों की कमजोरी की भरपाई कर देगी. स्थानीय कार्यकर्ता मुस्तफा एब्दी ने कहा, "वे अपने शहर को बचाने के लिए लड़ रहे हैं और उन्होंने कहा है कि वे अंतिम दम तक लड़ेंगे." एब्दी ने बताया कि ताजा अमेरिकी हमलों का ज्यादा असर नहीं हुआ है, "हमला मिश्तेनूर इलाके में हुआ, लेकिन वे (आईएस) वहां इकट्ठा नहीं थे. उन्हें दूसरी जगहों पर बमबारी करनी थी."

कुर्द आबादी में बढ़ती निराशा के बीच एक कुर्द आत्मघाती महिला हमलावर ने रविवार को कोबानी के करीब आईएस के ठिकाने के सामने अपने को उड़ा लिया. मध्य पूर्व पर नजर रखने वाले पर्यवेक्षकों का कहना है कि यह पहला मौका है जब एक महिला लड़ाके ने वह कदम उठाया है जो आम तौर पर जिहादी उठाते हैं. आईएस के लड़ाकों ने तीन हफ्ते पहले कोबानी की ओर बढ़ना शुरू किया और शहर के आस पास के बहुत से गांवों पर कब्जा कर लिया. उसके बाद करीब पौने दो लाख लोग भागकर तुर्की चले गए.

तुर्की के सुरुच शहर के एक अधिकारी ने कहा है कि सोमवार को 700 से ज्यादा लोग भागकर तुर्की आए, जिनमें 47 घायल थे. तुर्की की संसद ने पिछले सप्ताह सीरिया और इराक में आईएस के खिलाफ सैनिक हस्तक्षेप को मंजूरी दे दी थी, लेकिन सरकार ने जिहादियों के आगे बढ़ने के बावजूद अभी तक किसी सैनिक कार्रवाई की घोषणा नहीं की है.

दया की अपील

सुन्नी कट्टरपंथी संगठन आईएस पर लोगों पर व्यापक ज्यादतियों के आरोप लगाए गए हैं जिनमें जान से मारना, अपहरण, यातना देना और औरतों को गुलाम बनाना शामिल है. पिछले वीकएंड जिहादियों ने ब्रिटेन के राहतकर्मी एलन हेनिंग का सर कलम किए जाने का नया वीडियो जारी किया था. यह वीडियो पश्चिमी बंधकों को कैमरे के सामने मारे जाने का ताजा उदाहरण है. उसमें एक अन्य अमेरिकी बंधक पीटर कासिग को मारने की धमकी भी दी गई है. उनके पिता ने एक वीडियो संदेश में अपने बेटे को क्षमा देने की अपील की है.

अगस्त में इराक में आईएस के खिलाफ हवाई हमला शुरू करने के बाद से अमेरिका ने कट्टरपंथी संगठन के खिलाफ हवाई हमलों के लिए एक गठबंधन तैयार किया है जिसमें कई अरब देश भी शामिल हैं. सोमवार को अमेरिकी अधिकारियों ने कहा कि पहली बार इराक में जिहादियों पर हमले के लिए हेलीकॉप्टर भेजे गए हैं. अमेरिकी रक्षा अधिकारियों के अनुसार अब तक गठबंधन की सेना ने जिहादियों के खिलाफ करीब 2000 हवाई हमले किए हैं.

इधर जर्मनी में रहने वाले कुर्दों ने सीरिया और इराक में कुर्दों की बदहाल स्थिति पर ध्यान दिलाने के लिए कई शहरों में प्रदर्शन किया और जर्मनी से मदद की मांग की. बॉन में 50 लोगों का एक जत्था डॉयचे वेले में घुस गया. उन्होने एक ज्ञापन दिया जिसमें आईएस के लड़ाकों से बचकर भागी महिलाओं और बच्चों के लिए मदद की मांग की.

एमजे/आरआर (डीपीए, एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री