1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

कोच्चि की पारी खत्म होने की ओर

आईपीएल की सबसे महंगी टीम कोच्चि अब बस कुछ ही दिनों की मेहमान है. 1,500 करोड़ रुपये में खरीदी गई सात महीने पुरानी टीम को मिला 30 दिनों को नोटिस पीरियड आज खत्म. कल नागपुर में आईपीएल गवर्निंग काउंसिल भविष्य का फैसला करेगी.

default

नोटिस पीरियड के खत्म होने के दो दिन पहले ही कोच्चि को पैसा देने वाले निवेशकों ने बीसीसीआई को पत्र लिख दिया कि वे टीम से अलग हो रहे हैं. मतलब यह करीब करीब साफ है कि विवाद नहीं सुलझा और अब निवेशक टीम से अलग हो रहे हैं. ऐसे में बीसीसीआई के पास दूसरा कोई रास्ता बचा ही नहीं. यह नोटिस आईपीएल की गवर्निंग काउंसिल ने टीम मालिकों को आपसी विवाद सुलझाने के लिए दिया था.

10 अक्टूबर को बीसीसीआई ने किंग्स इलेवन पंजाब और राजस्थान रॉयल्स को करार के नियम तोड़ने पर आईपीएल से बाहर कर दिया. इसके बाद बीसीसीआई ने कोच्चि को आपसी विवाद सुलझाने के लिए 30 दिन का वक्त दिया और साथ ही यह चेतावनी भी कि विवाद खत्म न हुए तो उनका हाल भी पंजाब और राजस्थान की टीमों जैसा ही होगा.

Logo der IPL Cricket Indian Premier League

कोच्चि टीम पर मालिकाना हक निवेशकों के एक समूह का है जिसके पास 74 फीसदी की हिस्सेदारी है. बाकी बचा 26 फीसदी हिस्सा गायकवाड़ परिवार को उनकी सेवाओं के लिए मुफ्त में दिया गया है. इसमें शैलेंद्र गायकवाड़, उनके भाई रवि और उनके मां-बाप शामिल हैं. यही 26 फीसदी हिस्सेदारी टीम के लिए मुसीबत की जड़ बन गई है क्योंकि निवेशक मुफ्त में हिस्सेदारी देने के लिए तैयार नहीं हैं. उधर गायकवाड़ परिवार अपनी हिस्सेदारी छोड़ने को तैयार नहीं. निवेशकों के समूह में एंकर अर्थ, पारिणी डेवलपर्स, रोजी ब्लू और फिल्म वेव शामिल हैं.

बीसीसीआई ने पहले कहा था कि आईपीएल 4 में कुल आठ टीमें हिस्सा लेंगी अब तक ये साफ नहीं है कि कोच्चि की टीम इसमें होगी या नहीं. बीसीसीआई उपाध्यक्ष राजीव शुक्ला ने कहा, "बीसीसीआई को निवेशकों की तरफ से कुछ पत्र मिले हैं और कोच्ची के भविष्य का फैसला 28 तारीख को नागपुर में होगा."

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links