1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

कोई नहीं आएगा शांति का नोबेल लेने

इस साल नोबेल शांति पुरस्कार लेने कोई नहीं आएगा. चीन के विद्रोही कार्यकर्ता लिऊ चियाओबो जेल में बंद हैं. उम्मीद की जा रही थी कि उनके परिवार कोई सदस्य पुरस्कार लेने आ पाएगा. लेकिन ऐसा नहीं होगा.

default

नोबेल पुरस्कार देने वाले नोबेल इंस्टिट्यूट के निदेशक गेर लुंडेस्टाड ने बुधवार को कहा कि लिऊ के परिवार का कोई सदस्य पुरस्कार लेने नहीं आ पाएगा. उन्होंने बताया, "ऐसा लगता है कि लिऊ के परिवार ने उम्मीदें छोड़ दी हैं कि कोई सदस्य ओस्लो में 10 दिसंबर के समारोह में शामिल हो पाएगा." उन्होंने कहा कि बुधवार को मेहमानों की सूची तैयार की गई है जिसमें चीन से किसी मेहमान का नाम नहीं है.

China / Hongkong / Liu Xiaobo

लिऊ के समर्थन में प्रदर्शन

लुंडेस्टाड ने कहा कि 10 दिसंबर को समारोह तो होगा लेकिन उसमें शांति पुरस्कार का मेडल, डिप्लोमा और 14 लाख डॉलर का पुरस्कार किसी को नहीं सौंपा जाएगा. 109 साल के नोबेल पुरस्कारों के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा. इससे पहले तीन बार ऐसा हुआ जब पुरस्कार जीतने वाले लोग समारोह में नहीं पहुंचे, लेकिन उनकी तरफ से किसी न किसी ने पुरस्कार ले लिया था.

लिऊ इस वक्त जेल में अपनी 11 साल की कैद काट रहे हैं. उन्हें इसी साल 8 अक्टूबर को नोबेल शांति पुरस्कार देने का एलान किया गया था. चीन लिऊ को अपराधी मानता है और उसने उन्हें पुरस्कार देने पर कड़ी आपत्ति जताई है. ओस्लो में चीनी दूतावास ने अन्य देशों के दूतावासों को पत्र लिखकर कहा है कि वे लोग समारोह में शामिल न हों.

हालांकि चीन की इस चेतावनी के बावजूद अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस और जर्मनी समेत ज्यादातर पश्चिमी देशों ने कहा है कि वे समारोह में शामिल होंगे.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः एन रंजन

DW.COM

WWW-Links