कॉमनवेल्थ गेम्स में पैसे नहीं देगा बीसीसीआई | खेल | DW | 31.07.2010
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

कॉमनवेल्थ गेम्स में पैसे नहीं देगा बीसीसीआई

भ्रष्टाचार के बड़े आरोपों के बीच कॉमनवेल्थ गेम्स के आयोजकों को एक और बड़ा झटका लगा, जब भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने उसे 100 करोड़ की सहायता देने से मना कर दिया. बीसीसीआई ने कहा कि विवादों के बीच वह अपना पैसा नहीं लगाएगा.

default

बोर्ड का इनकार

भारतीय क्रिकेट बोर्ड बीसीसीआई की मुंबई में कार्यसमिति की बैठक चल रही है. इसमें तय किया गया कि तैयारियों में हो रही देरी और फिर भ्रष्टाचार के व्यापक आरोपों के बाद कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए वह अपनी वित्तीय सहायता नहीं देगा.

बीसीसीआई के सचिव एन श्रीनिवासन ने एक बयान जारी कर कहा, "समिति ने कहा है कि वह कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए 100 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता देकर प्रमुख भागीदार बनने में असमर्थ है." कॉमनवेल्थ गेम्स दिल्ली में तीन अक्तूबर से खेले जाएंगे. हाल ही में इसके आयोजन में बड़ा भ्रष्टाचार उजागर हुआ है.

Commonwealth Games 2010 in Indien

तैयारियों पर उठे सवाल

बैठक में क्रिकेट मैचों के टेलीविजन ब्रॉडकास्टिंग अधिकार और दूसरे मुद्दों पर भी चर्चा चल रही है. लेकिन बैठक का मुख्य एजेंडा कॉमनवेल्थ गेम्स के आयोजकों द्वारा मांगे गए 100 करोड़ रुपये की सहायता पर चर्चा करना ही था. भारतीय ओलंपिक संघ के मुखिया और कॉमनवेल्थ गेम्स की आयोजन समिति के प्रमुख सुरेश कलमाडी ने बीसीसीआई को पत्र लिख कर आर्थिक मदद की मांग की थी.

बीसीसीआई और भारतीय ओलंपिक संघ में अच्छा रिश्ता नहीं है. भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने एशियाई खेलों के लिए टीम नहीं भेजने का फैसला किया है. इसकी वजह से हाल ही में संघ ने बीसीसीआई की आलोचना की थी. एशियाई खेलों में पहली बार क्रिकेट को शामिल किया गया है और इस साल चीन में होने वाले खेल में ट्वेन्टी 20 क्रिकेट का मुकाबला भी होगा. लेकिन टीम न भेजने के फैसले के बाद सुरेश कलमाडी ने कहा था कि बोर्ड बहुत ज्यादा पेशेवर हो गया है और पैसे के पीछे भाग रहा है.

इसके अलावा ओलंपिक संघ चाहता था कि ऑस्ट्रेलिया दौरे की तारीख बदली जाए, जो कॉमनवेल्थ गेम्स के बीच में पड़ रही है. लेकिन बोर्ड ने इसके लिए भी मना कर दिया. हालांकि दुनिया का सबसे धनी क्रिकेट बोर्ड बीसीसीआई दूसरे खेलों में भी मदद की कोशिश कर रहा है. पिछले साल उसने ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन को ऐन मौके पर मदद दी थी, जिसके बाद भारतीय टीम एशिया कप में क्वालीफाई कर पाई. भारत की फुटबॉल टीम लगभग 25 साल बाद इस कप के लिए क्वालीफाई कर पाई है.

रिपोर्टः पीटीआई/ए जमाल

संपादनः उ भट्टाचार्य