1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

कॉमनवेल्थ खेलों का ठेका लेने वालों पर छापा

कॉमनवेल्थ खेलों के आयोजन मे ठेका लेने वाली कुछ कंपनियों के दफ्तर पर आयकर विभाग के अधिकारियों ने छापे मारे हैं. खेलों के आयोजन में घपले की शिकायतों के सिलसिले में ये छापे मारे गए हैं.

default

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि गुरुवार को सुबह सुबह ही आयकर विभाग के करीब 150 अधिकारियों ने दिल्ली और आसपास के इलाके में मौजूद कई कंपनियों के दफ्तर पर एक साथ छापा मारा है. आयकर अधिकारी खास तौर से उन ठेकों की पड़ताल कर रहे हैं जो कॉमनवेल्थ आयोजन समिति ने दिए. इन ठेकों में आयोजन समिति के अधिकारियों और ठेकेदारों की भूमिका की भी जांच की जा रही है. साथ ही इस मामले में दी गई रिश्वत के आरोपों की भी जांच हो रही है.

आयकर विभाग के अधिकारियों ने ठेके से जुड़े सारे दस्तावेज जब्त कर लिए हैं. अधिकारी इस बात की भी पड़ताल कर रहे हैं कि क्या टैक्स बचाने के लिए ज्यादा कीमतें लगाई गई हैं और खातों में हेरफेर किया गया है.

आयकर विभाग ने 19 अक्टूबर को भी इसी तरह के छापे मारे थे जिसमें बीजेपी नेता सुधांशु मित्तल की कंपनी के दफ्तर पर भी छापा पड़ा. बताया जाता है कि सुधांशु मित्तल की कंपनी को खेलों के आयोजन में 700 करोड़ रुपये का ठेका मिला था.

कॉमनवेल्थ खेलों के खत्म होने के साथ ही इनकी जांच शुरू कर दी गई. प्रधानमंत्री ने गड़बड़ियों की जांच के लिए एक विशेष कमेटी भी बनाई है. पूर्व महालेखापरीक्षक वीके शुंगलू इस कमेटी के प्रमुख हैं. शुंगलू को इस घोटाले की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट के जज का दर्जा दिया गया है. इसके अलावा भारत के महालेखापरीक्षक भी इन घोटालों की जांच कर रहे हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links