1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

कैसे आई फिएट कर्मचारी के घर मशहूर पेंटिंग

इटली की पुलिस ने फिएट के एक कर्मचारी के घर से फ्रांस के दो मशहूर चित्रकारों पॉल गोगां और पियेर बोनार की पेंटिंग्स बरामद की है. इन्हें 40 साल पहले लंदन में चुराया गया था.

फिएट कार कंपनी के इस कर्मचारी ने 1975 में रेलवे के एक ऑक्शन में आज के हिसाब से करीब 23 यूरो में ये पेंटिग्स खरीदी थीं. ये तस्वीरें फ्रांस के मशहूर चित्रकार गोगां और बोनार की बनाई हुई हैं. इन तस्वीरों को 1970 में लंदन में चुरा लिया था. इनकी कीमत अब लाखों यूरो है. इटली के संस्कृति मंत्री दारियो फ्रांचेस्किनी ने बुधवार को बरामद की गई दोनों पेंटिग्स एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में पेश की. इटली की पुलिस का मानना है कि उन्हें 6 जून 1970 को लंदन के रिजेंट पार्क में मार्क कैनेडी परिवार के मकान से चुराया गया.

बाद में पेंटिंग चोरी करने वालों ने पेरिस से तूरीन जाने वाली एक ट्रेन में छोड़ दिया. इटैलियन रेल ने बाद में उसकी नीलामी की, जिसे फिएट में काम करने वाले एक पेंटिंग प्रेमी कर्मचारी ने खरीदा. उसने उसे पहले तूरीन के अपने मकान में और बाद में सिसिली में किचन में टांग कर रखा. चार दशक से यह मशहूर पेंटिंग किचन में टंगी रही.

अधिकारियों ने कहा है कि पेंटिंग्स का पता करने के लिए काफी मेहनत करनी पड़ी. 2013 की गर्मियों में जांच अधिकारियों को दो तस्वीरों पर दोनों चित्रकारों की चोरी की गई पेंटिंग्स दिखी. शुरुआती जांच में यह भी पता चला कि वह खोजे जा रहे आर्टवर्क की सूची पर नहीं है. लेकिन 1970 में न्यूयॉर्क टाइम्स और सिंगापुर के एक अखबार ने चोरी की खबर दी. जांचकर्ताओं की खोज जारी रही और उन्हें आखिरकार सफलता मिल ही गई. आरंभिक जांच में पता चला कि उन्हें 1975 में 45,000 लीरा की मामूली रकम में खरीदा गया था.

1948 में पैदा हुए पॉल गोगां की पेंटिग 1869 में बनाई गई थी. उसमें एक टेबल पर फलों को दिखाया गया है. 1967 में पैदा हुए पियेर बोनार के तेलचित्र में एक युवा महिला को गार्डन में दिखाया गया है. संस्कृति मंत्रालय के अनुसार सांस्कृतिक धरोहरों की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार इटली की काराबिनियेरी ने एक कैटेलोग में चोरी का संकेत पाए जाने के बाद इंटरपोल और पेरिस की पुलिस से संपर्क किया. जांचकर्ताओं ने मार्च में दोनों पेंटिंग बरामद की और उसे रोम के अभियोक्ता कार्यालय को सौंप दिया.

इटली के पास चुराए गए आर्टवर्क का पता करने के लिए विश्व प्रसिद्ध टास्क फोर्स है. टास्क फोर्स के प्रमुख मारियानो मोसा के अनुसार सांस्कृतिक धरोहरों का अवैध कारोबार हथियार, ड्रग और वित्तीय बॉन्ड कारोबार के बाद चौथे नंबर पर है. टास्क फोर्स के पास 57 लाख चुराई गई चीजों का विश्व का सबसे बड़ा डाटाबैंक है.

एमजे/आईबी (डीपीए, एएफपी)

संबंधित सामग्री