1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

कूटनीतिक दांव पर उम्मीद टिकी

पूर्वी यूक्रेन में सरकारी सैनिकों और रूस समर्थक अलगाववादियों के बीच नई झड़पों में और लोगों के मरने की खबर है. उधर जर्मनी शांति के लिए जेनेवा में दूसरे दौर की कूटनीतिक बातचीत चाहता है.

अलगाववादियों के कब्जे वाले पूर्वी यूक्रेनी शहर स्लावियांस्क के करीब यूक्रेन के सरकारी सैनिकों और रूस समर्थक विद्रोहियों के बीच भारी लड़ाई की खबर है. इसमें बहुत से लोगों के मरने की बात कही जा रही है. लड़ाई की जगह से 6 किलोमीटर दूर एक सैनिक चौकी पर यूक्रेन के गृह मंत्री आर्सेन अबाकोव यह जानकारी देते हुए कहा, "कुछ लोग मरे हैं." सेना ने एक दिन पहले विद्रोहियों के कब्जे वाले शहर स्लावियांस्क पर घेराबंदी कस दी थी. रॉयटर्स समाचार एजेंसी के संवाददाता ने बताया है कि गोलीबारी की आवाजें शहर के केंद्र की ओर आती लग रही हैं.

यूक्रेन में बढ़ती हिंसा के बीच जर्मनी के विदेश मंत्री श्टाइनमायर ने में कहा है कि वहां शांति बहाल करने के लिए फिर से कूटनीतिक वार्ता की जानी चाहिए ताकि, "इस विवाद को खत्म करने का सटीक तरीका निकाला जा सके." उन्होंने कहा कि वह रूसी विदेश मंत्री सेर्गेई लावरोव और अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी के साथ यूरोपीय संघ और यूरोप में सहयोग और सुरक्षा संगठन ओएससीई की बैठक के लिए कोशिश कर रहे हैं. उन्होंने ओएससीई की व्यापक भूमिका को अहम बताते हुए कहा कि संगठन हमेशा से "अति महत्वपूर्ण" सूचनाएं देता रहा है.

रविवार देर रात क्रेमलिन ने घोषणा की कि यूरोप में सहयोग और सुरक्षा के संगठन ओएससीई के प्रमुख दिदियेर बुर्कहाल्टर बुधवार को बातचीत के लिए मॉस्को पहुंचेंगे. यह बातचीत रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल के बीच टेलीफोन बातचीत के बाद तय की गई है. इस बातचीत के बाद कहा गया कि रूस और ओएससीई यूक्रेन में राष्ट्रीय संवाद के लिए बातचीत करेंगे. रूस ने कहा, "पुतिन और मैर्केल ने प्रभावी अंतरराष्ट्रीय कार्रवाई के महत्व पर जोर दिया, खासकर ओएससीई की भूमिका पर ताकि यूक्रेन में तनाव कम हो सके."

साथ ही मॉस्को ने यूक्रेनी सेना से अपील की कि पूर्वी शहरों में वह सैन्य कार्रवाई बंद करे, क्योंकि वहां के लोगों ने फोन करके रूस से मध्यस्थता करने को कहा है.

यूक्रेन के गृह मंत्री ने कहा कि सरकार ने नई विशेष टुकड़ी को दक्षिणी गोदी नगर ओडेसा भेजने की तैयारी की है. सप्ताहांत में सरकार समर्थकों और रूस समर्थकों के बीच हुए संघर्ष में दर्जनों लोग मारे गए थे. यूक्रेन के गृह मंत्री आर्सेन अवाकोव ने कहा कि नई टुकड़ी उन लोगों की मदद के लिए भेजी जा रही है जो शहर को मुश्किल दौर में संभालने के लिए मदद मांग रहे हैं. स्थानीय पुलिस को निलंबित कर दिया गया है और उन पर आपराधिक मुकदमे की कार्रवाई की जा सकती है.

दक्षिण पश्चिमी बंदरगाह शहर ओडेसा में हर तरह के लोग रहते हैं. वहां रूस समर्थक, यूक्रेन समर्थक, जॉर्जियाई और तातार लोग भी रहते हैं. इस इलाके में हिंसा यूक्रेन के लिए अलार्म है क्योंकि इसे अलगाववादियों के रूसी भाषी इलाकों से बाहर फैलने के संकेत के तौर पर देखा जा रहा है.

फरवरी में विरोध प्रदर्शनों के बीच रूस समर्थक राष्ट्रपति विक्टर यानुकोविच के देश छोड़ कर जाने के बाद से ओडेसा की हिंसा सबसे गंभीर घटना है. ओडेसा में शनिवार को हथियारबंद लोगों ने स्थानीय पुलिस थाने पर हमला किया ताकि रूस समर्थक लोगों को छुड़ाया जा सके. पहले तो स्थानीय पुलिस ने इन लोगों को पीछे हटाने की कोशिश की लेकिन बाद में प्रदर्शनकारियों के दबाव में पुलिस ने 67 लोगों को रिहा कर दिया.

पूर्वी यूक्रेन के कई शहरों में अलगाववादियों ने कई इमारतों को फिर से अपने कब्जे में ले लिया है. स्लावियांस्क और क्रामातोर्स्क की अहम सरकारी इमारतें अलगाववादियों के कब्जे में हैं.

एएम/एमजे (एएफपी, रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री